एक अजन्मी कविता!

एक अजन्मी कविता  चाह  छाँव  मीत  प्रीत  गीत  अर्थ-बिन अर्थ  समय-असमय  बात -बेबात  गुण -अवगुण  उपेक्षा -अपेक्षा  धुंध- स्वप्न शून्य...

November 2, 2013

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

PIcture by Alpana-


'ज्योति मुखरित हो,हर घर के आँगन में,

कोई भी कोना ,ना रजनी का डेरा हो,
खिल जाएँ व्यथित मन,आशा का बसेरा हो,
करें विजय तिमिर पर ,अपने मन के बल से,
दीपों की दीप्ती यह संदेसा लाई है,
करें मिल कर स्वागत,दीवाली आई है.' 


“आप सभी को दीपावली  के इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ”
======================================================

19 comments:

Harihar (विकेश कुमार बडोला) said...

क्‍या बात है। मेरी ओर से आपको इस पुनीत दीप-प्रकाशोत्‍सव की अनेक मंगलकामनाएं।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति ,,,
दीपावली की हार्दिक बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ।।
================================
RECENT POST -: तुलसी बिन सून लगे अंगना

Anonymous said...

अल्पना जी,

अति लुभावनी कविता / कामना के लिए हार्दिक धन्यवाद| आपको सपरिवार दीपावली की शुभकामनाएं |

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर.. आप को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर रचना.
दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी said...

शानदार सामयिक प्रस्तुति...दीपावली की शुभकामनायें...
नयी पोस्ट@जब भी जली है बहू जली है

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

आपको भी ढेरों शुभकामनाएं

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (03-11-2013) "बरस रहा है नूर" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1418 पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
प्रकाशोत्सव दीपावली की
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रविकर said...

पाव पाव दीपावली, शुभकामना अनेक |
वली-वलीमुख अवध में, सबके प्रभु तो एक |
सब के प्रभु तो एक, उन्हीं का चलता सिक्का |
कई पावली किन्तु, स्वयं को कहते इक्का |
जाओ उनसे चेत, बनो मत मूर्ख गावदी |
रविकर दिया सँदेश, मिठाई पाव पाव दी ||


वली-वलीमुख = राम जी / हनुमान जी
पावली=चवन्नी
गावदी = मूर्ख / अबोध

ताऊ रामपुरिया said...

सुंदर प्रकाश गीत.

दीपावाली की हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

कालीपद "प्रसाद" said...

बहुत सुन्दर
दीपावली की शुभकामनाएं !
नई पोस्ट आओ हम दीवाली मनाएं!

सुशील कुमार जोशी said...

बहुत सुंदर दीपोत्सव शुभ हो !

दिगम्बर नासवा said...

सुन्दर भाव ...
दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

Asha Joglekar said...

दीपावली पर बहुत सुंदर कविता। ापको भी दीप पर्व की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

Jyoti khare said...

वाह!!! बहुत सुंदर !!!!!
उत्कृष्ट प्रस्तुति
बधाई--

उजाले पर्व की उजली शुभकामनाएं-----
आंगन में सुखों के अनन्त दीपक जगमगाते रहें------

मुकेश कुमार सिन्हा said...

दीपोत्सव की शुभकामनायें ....

Shashi said...

Now the blog posts come in social net work mails . How I missed . Keep writing such a beautiful poem !

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...


आदरणीया अल्पना जी इन सुंदर पंक्तियों के लिए हार्दिक धन्यवाद ..आपको भी दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

Arpita said...

Bahut uttam ...
You have done very nice collection of these Diwali poetry , lines and messages. Really you have a good command on Hindi...