एक अजन्मी कविता!

एक अजन्मी कविता  चाह  छाँव  मीत  प्रीत  गीत  अर्थ-बिन अर्थ  समय-असमय  बात -बेबात  गुण -अवगुण  उपेक्षा -अपेक्षा  धुंध- स्वप्न शून्य...

May 28, 2021

शेफाली ... स्मृति शेष : गिरिजेश राव जी

 


कोई दीप


कोई दीप जलाओ, बहुत अँधेरा है।

चलते रहे जिन वीथियों पर
भटकती पहुँचीं उन संगीतियों पर
न अर्थ जिनका, न कोई डेरा है।

सहेजते रहे ताड़पत्र गठरियाँ भर
कि रचेंगे छन्द कभी ठठरियाँ कर
जिस देह न वसन, न बसेरा है।

कर दिया सब अर्पण जिस वेदी पर
रखे कुम्भ जिस पर अक्षत भर भर
सगुन टूटा व जाना - कुछ न मेरा है।
---------------------

[शनिवार फरवरी 2021 को प्रकाशित  उनकी अंतिम कविता ]
इस कविता के बाद कोई अन्य कविता प्रकाशित नहीं हुई ।  

तो  क्या...  कवि को अपनी मृत्यु का पूर्वानुमान हो गया था ?
 

अपने कवि होने की बात पर वे लिखते हैं : :
'जो दूसरों की हैं, कवितायें हैं। जो मेरी हैं, -वितायें हैं, '-' रिक्ति में 'स' लगे, 'क' लगे, कुछ और लगे या रिक्त ही रहे; चिन्ता नहीं। ... प्रवाह को शब्द भर दे देता हूँ। '
-------------
कोविड महामारी ने एक और प्रिय  रचनाकार  छीन लिया । 

  गिरिजेश जी का आपका यूँ  असमय चले जाना अत्यंत दुखद और अविश्वसनीय है  । 

 हिन्दी भाषा जगत  और सनातनधर्मियों के लिए अपूरणीय क्षति है।अभी तो आपको  बहुत काम करने थे।
ईश्वर आपको अपने श्रीचरणों में स्थान दे ऐसी मेरी प्रार्थना है ।
अश्रूपूरित विनम्र श्रद्धांजलि ।


ब्लॉगिंग के  वे सुनहरे वर्ष थे जब कई अच्छे  रचनाकारों से परिचय हुआ ।
 

गिरिजेश राव जी का चिट्ठा 'एक आलसी का चिट्ठा ' और कविताओं का चिट्ठा 'कवितायें और कवि भी ' पढ़ा और निःसंदेह वे हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ लेखकों और कवियों में से  एक हैं।आज के समय में जब हिन्दी संक्रमित हो गई है ऐसे में उनके लेखन की भाषा की शुद्धता प्रभावी है।  

2009 में मेरे एक गीत 'तुम अपना रंजो ग़म' पर उनकी टिप्पणी और एक ईमेल  के माध्यम से उनके संगीत प्रेम से  परिचय हुआ । उनसे एक गीत गाने का सुझाव मिला जो उनको बेहद पसंद था परंतु  मैंने वह कभी गाया  नहीं क्योंकि मुझे वह कभी पसंद नहीं था ,वह है 'कभी तन्हाइयों में यूँ हमारी याद आएगी '

संगीत की समझ होते हुए भी वे कहते थे  'मेरा संगीत ज्ञान शून्य है !खगोल विषय में  उनकी रुचि और खोज प्रशंसनीय थी।  
 


ताकि सनद  रहे


2013
में दो बार उनके ब्लॉग पर [कुछ  अन्य चुनिंदा ब्लॉग्स के साथ  ] मेरे ब्लॉग्स की चर्चा भी उन्होंने की ,जो मेरे लिए गर्व की बात थी।ब्लॉगरी  के  दशकोत्सव में विभिन्न  मानकों पर कसने के बाद उन्होंने कुछ चिट्ठे  चुने जिनमें मेरा भी था । 
 वे कई  विधाओं में लिखते थे । उन्हें कई भाषाओं  का ज्ञान था ।

परिष्कृत  भाषा का प्रयोग उनके लेखन में देखने को मिलता है।   

किसी के लेखन में वर्तनी की त्रुटि उनको बहुत अखरती थी और टोकने से कतराते नहीं थे।
----------- 

प्रतिष्ठित 'मघा' पत्रिका के 2018 के कृष्ण 'जन्माष्टमी और पुराण' अंक के लिए कुछ श्लोक रिकार्ड करवाए ,उन्हें सुनने के बाद उन्होंने[सनातन  सिंह ]  कहा था कि ' समस्त पुराणों के कृष्ण जन्म वृत्तांत आप ही गायें। 

गिरिजेश  जी से इतना  सुनना ही किसी पुरस्कार पाने जैसा था लेकिन 'सब  रिकार्ड कर पाने की  मेरी असमर्थता थी इसलिए मैंने मना कर दिया  था।  'मघा' पत्रिका में  मेरे द्वारा कुछ श्लोकों के गायन को  स्थान देकर उन्होंने मेरा मान बढ़ाया।  

इन 13 वर्षों में भाषा संबंधी कोई शंका निवारण करने के लिए  मुझे कोई विश्वसनीय स्रोत समझ आता था  तो वे गिरिजेश  जी थे। वेद आदि पढ़ने हेतु संस्कृत उन्होंने स्वयं सीखी और उन्हीं से मुझे भी प्रेरणा मिली कि संस्कृत सीखूँ ।-------------
 मुझे उनकी बहुत -सी कविताएँ पसंद हैं,उनकी यह रचना देखिए :-

...और तब उसने स्वयं को काट कर आधा किया
उसे अलग किया जिसे वह प्रेम कर सके
उस दिन मृत्यु का जन्म हुआ।


यह एक छोटी सी कविता है, जिसमें  चंद पंक्तियाँ में जैसे एक कहानी कह दी है.
उसको जो वजूद का हिस्सा बन चुका हो ,वो जो खुद में समा गया है
उसे स्वयं से अलग करना ही मर जाना है। 

हिन्दी के अतिरिक्त इंग्लिश में भी कवितायेँ लिखी हैं ,मेरी पसंद -
the song tonight


…the letters of letter are flying in the room
the gloom must be there scattering now
how will you catch the destiny
Ginny, you so small
I can see the meadows green
full of joy, youth and greed
to meet you
and the reed
weeps desperately to be my pen
for the pain I’ll write to flee
from here to meet you
Let the fleet pass
and the bands march
let the sun scorch
and the winds blow
I have to flow to thee my love
some day we’ll meet
sure and pure
to the promise made long back
==========

उनके विषय में जितना लिखा जाए कम है।

सादर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए उनकी लिखी एक  कहानी 'शेफाली' का  वाचन प्रस्तुत है -:

 

 ===========

May 25, 2021

दास्तान ए आशू दा /श्रद्धांजलि/स्मृति शेष :प्रकाश गोविंद जी

कोरोना महामारी ने हमसे बहुत से प्रियजनों को छीन लिया । प्रसिद्ध ब्लॉगर computer  और इंटरनेट तकनीकी एक्सपर्ट पाबला जी 24 अप्रैल 2021 को  हमारे बीच नहीं रहे ,उनके जाने के 8 दिन बाद उनके घनिष्ठ मित्र श्री प्रकाश गोविंद जी 01  मई 2021 को कोविड से हार गए । वे  एक बहुत अच्छे  ब्लॉगर ,लेखक और कवि भी थे ,असमय ही सबको छोड़कर चले गए ।ईश्वर उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दे। संकट की इस घड़ी में उनके अपनों को इस अपूरणीय क्षति को सहने की हिम्मत भी दे ,सादर  नमन। 

 श्रद्धांजलि के रूप में प्रकाश जी की लिखी एक कहानी सुना  रही हूँ  । 

' जो कि महज मखमल में टाट का पैबंद था '
कहानी -
दास्तान-ए-आशू दा
  ----------------------------------

लेखक : प्रकाश गोविंद
लोग चाहे कुछ भी कहते फिरें, लेकिन आशू दद्दा पर कोई असर नहीं। वह हमेशा की तरह वैसे के वैसे ही रहे। आशूदा सच में पागल हैं। हो सकता है ऐसा न हो, लेकिन हम घर वालों की राय उनके प्रति यही मानी जाती रही कि आशूदा का पेंच ढीला है। पिताजी ने तो अपने शक को पुख्ता करने के लिए मनोचिकित्सक को घर बुलाकर बहाने से आशूदा को भी सामने बैठाया था। मनोविज्ञान का डाक्टर देर तक बातचीत करता रहा, बीच-बीच में कई तरह के सवाल पूछकर आशूदा का मुआयना करता रहा। मनोचिकित्सक का मानना था कि आशूदा बिलकुल ठीक हैं। बस जरा सामान्य लोगों से अलग हैं। इस पर पिताजी की प्रतिक्रिया थी कि पागलपन का मतलब भी तो यही है, जो सामान्य लोगों जैसा व्यवहार न करे, वो पागल है। सभी असहमति प्रकट करते डाक्टर के निष्कर्ष से।... 

पूरी कहानी आप प्रकाश जी के ब्लॉग  पर यहाँ पढ़ सकते हैं । उनकी यह कहानी रचनाकार में भी प्रकाशित हुई थी।

(लेखक की एक अन्य लघु कथा 'यकीन" यहाँ सुन सकते हैं)  

प्रकाश जी ने मुझे हिन्दी साहित्य के श्रेष्ठ रचनाकारों की कृतियों से परिचय कराया। गीत -संगीत में एक सी रुचि के कारण हमने एक साथ सिनेमा गीत संगीत के ब्लॉग पर काम किया। बहुत मेहनत से उस ब्लॉग पर प्रकाश जी ने जानकारियाँ एकत्र कीं थीं । 

वे बहुत ही मेधावी थे,शतरंज उनका प्रिय खेल रहा, और online चेस में champion भी रहे। विवेक रस्तोगी जी की  तर्कबुद्धि  और गणितीय कठिन पहेलियों को भी चुटकियों में हल करते थे। ताऊ पहेलियों के कई बार विजेता भी रहे। चित्र ,औडियो,या कैसी भी पहेलियों को झट से हल कर लेने  में महारत हासिल थी। 

मैं हाल ही के कुछ  सालों से अधिक संपर्क में नहीं थी (जिसका अब अफसोस है ,(I learnt :We should not take helping people for granted)। लेकिन जितना भी उनको जान पाई ,वे एक बहुत ही अच्छे इंसान थे। मुझे बहुत सम्मान देते थे। मुझे वे एक अच्छे दोस्त ,सहयोगी ,मार्गदर्शक और सलाहकार के रूप में याद रहेंगे।कुछ वर्ष पूर्व लगभग  सभी जाने माने ब्लॉगर्स को पुस्तकें छपवाते देखकर मैं अपनी भी एक पुस्तक छपवाना चाहती थी परंतु उन्होंने हमेशा मुझे यही कहा कि अभी आपकी पुस्तक के छपने का समय नहीं आया, आपको अपने लेखन में और सुधार लाना है तब ही पुस्तक लिखना। उनको प्रकाशन/सम्पादन  विभाग का अनुभव है इसलिए मैंने उनकी बात को गंभीरता से लिया और प्रयास कर रही हूँ कि मेरा  लेखन सुधर सके। मैं चाहती थी कि मैं जो पुस्तक के लिए सामग्री तैयार करूँ उसको  अंतिम रूप वे ही दें क्योंकि इस क्षेत्र में उनका अनुभव मेरा मार्गदर्शन करता । उनका इस तरह चुपचाप सबसे दूर चले जाना मेरे लिए भी व्यक्तिगत क्षति है।

 ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और अपनी पनाह में  रखे। ॐ शांति!

============================================ 

ताकि सनद  रहे