अभिशप्त माया

ग़लती से क्लिक हुई छाया एक साए की  आज सागर का किनारा ,गीली रेत,बहती हवा कुछ भी तो रूमानी नहीं था. बल्कि उमस ही अधिक उलझा रही थी माया...

कल्पना के परों पर Poetry gatherings

5 comments:

  1. बहुत बढ़िया ..शब्द पथ पर यूं ही आगे बढ़ते रहे |

    ReplyDelete
  2. Bahut badiya pryaas khudko pane ka, jadon se dur hokar muskarane ka
    ahat aaj nahi hogi firbhi kal kal ye desh pukare ga,
    Mitti se dur rahakar bhi, Bhrat ki dharti ko seenchne wale tujhe Prnam.

    ReplyDelete
    Replies
    1. In sundar shbdon se hausala ajzaayi karne aur maan badhane hetu aap ka bahut bahut aabhaar.

      Delete
  3. अगर संभव हो सके तो संपर्क दीजिए।
    9329999915
    www.booksinvoice.com

    ReplyDelete

आप के विचारों का स्वागत है.
~~अल्पना