अभिशप्त माया

ग़लती से क्लिक हुई छाया एक साए की  आज सागर का किनारा ,गीली रेत,बहती हवा कुछ भी तो रूमानी नहीं था. बल्कि उमस ही अधिक उलझा रही थी माया...

August 10, 2016

माही--एक लघु फिल्म-एक प्रयास

अपनी लिखी एक छोटी सी कहानी को फिल्म के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास किया है.
आशा है आपको पसंद आएगा....

अवधि-3 मिनट ४० सेकंड     Time: 3 Minutes 40 Sec

इंटरनेट की स्पीड धीमी है और फिल्म अगर लोड  न हो रही हो तो  विडियो सेटिंग में quality२४० कर लें इससे  फिल्म जल्दी load हो जायेगी.

अपने सुझाव या टिप्पणी अवश्य दीजियेगा.