Search This Blog

November 25, 2012

हाइकु


प्रस्तुत हैं सात हाइकु  .. --; 
१- 

गुम है मीता 


मौन हुई निगाहें

मन भी रीता 

[मीता--सखा /friend]


-

तस्वीर मौन 


अंतहीन प्रतीक्षा 


खुद को भूले !




३-

चलते रहे 

रुकावट राह की 

फिरी नज़र 


४- 

नयन भीगे

सलवटें माथे पे 

कलाई सूनी.



५ -
पाषाण मन 

अंतर बहे लावा 

आँखों का   नीर !



६-
दोराहा आया 

धुंध हुई गहरी 

नहीं हैं ' हम' !



७-

ठहरा पानी 

उनका प्रतिबिम्ब 

घुलता   चाँद 


~~-अल्पना वर्मा ~~

हाइकु कविता  के संबंध में संक्षिप्त जानकारी-:

  • हाइकु/हायकू  हिन्दी में १७ अक्षरों में लिखी जानेवाली सब से छोटी कविता है.

  • तीन पंक्तियों में पहली और तीसरी पंक्ति में ५ अक्षर और दूसरी पंक्ति में ७ अक्षर होने चाहिये.

  • संयुक्त अक्षर ex:-प्र. क्र , क्त ,द्ध आदि को एक अक्षर/वर्ण गिना जाता है.

  • शर्त यह भी है कि तीनो पंक्तियाँ अपने आप में पूर्ण हों.[न की एक ही पंक्ति को तीन वाक्यों में तोड़ कर लिख दिया.]

  • हाइकु कविता ' क्षणिका' नहीं कहलाती क्यूंकि क्षणिका लिखने में ये शर्तें नहीं होतीं



20 comments:

आशा जोगळेकर said...

ठहरा पानी

उनका प्रतिबिम्ब

घुलता चाँद

वाह ।

सुंदर भावभरे हाइकू ।

Himanshu Kumar Pandey said...

हाइकू की सक्षम तकनीक से परिचित नहीं हूँ।
अच्छे लगे! चित्रों ने भी अपना काम किया है।
आभार।

सुमन कपूर 'मीत' said...

बहुत खूब अल्पना जी ..हर हायकू लाजवाब

प्रवीण पाण्डेय said...

शब्द, चित्र और भाव, एक दूसरे के प्रेरक और पूरक।

Rajesh Kumari said...

आपकी उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 27/11/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका चर्चा मंच पर स्वागत है!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुंदर हायकू...

Anonymous said...

किसी मन के केन्वेस पर ... भावों से उभरे चित्रों को ... इन छोटी सुन्दर कविताओं {हाइकू } में ढालने के लिए ... जो नज़र भगवान ने आपको दी है ... उसके लिए .... HATTS OFF

SA Feroz

Mukesh Kumar Sinha said...

sundar
behtareen
saare ek se badh kar ek:)

ajay yadav said...

चित्रात्मक हायकू पहली बार देखा ...और हायकू के बारे में बहुत अच्छी जानकारी भी ...शुक्रिया ...आभार http://drakyadav.blogspot.in/

मन्टू कुमार said...

लाजवाब हाइकू... और इसके बारे में जानकरी के लिए विशेष आभार... |

सादर |

Kavita Saharia said...

Beautiful. Yuon to sab bahut sundar hain par aaj No 5 is my favorite.

अनूप शुक्ल said...

बहुत खूब,
हायकू ये सुन्दर,
क्या बात है।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही सुंदर हाईकू. इनके बारे में आपने जानकारी जोड दी जो लोगों के बहुत काम आयेगी. बहुत शुभकामनाएं.

रामराम

Gajadhar Dwivedi said...

आपने हाइकू के बारे अच्‍छी जानकारी दी है अल्‍पना जीा हाइकू के बारे सुना था और इसे मैं क्षणिकाएं समझता था, लेकिन आपने पूरी तरह समझा दिया है कि हाइकू क्‍या है, धन्‍यवाद

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...


आदरणीया अल्पना जी !
हाइकु भी अच्छे लगे और जानकारी भी
:)

इस पोस्ट को कुछ दिन पहले पढ़ लिया था , लेकिन कमेंट छप नहीं पाया था तब ...

पोस्ट और कमेंट दोनों के ही तिथि वार नज़र नहीं आ रहे ... कोई गड़बड़ी है तो सुधारलें ...


नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं सहित…
राजेन्द्र स्वर्णकार

प्रवाह said...

हायकू कविता की विधा से परिचय करने के लिए आभार ,आपसे परिचय से प्रेरित होकर हमने भी इस विधा में हाथ आजमाया है ,जिसपे आपकी प्रतिक्रिका मिली ,बहुत ही सुखद लगा ,मेरे चिट्ठे पे पधारने और प्रतिक्रिया देने के लिए बहुत बहुत साधुवाद

vilas khade said...

सुंदर हायकू! क्या इन्हें शेअर करने की अनुमति आप दे सकते? मै मराठी भाषा मे जो हायकू लिखना चाहते हैं उनको उदाहरणार्थ आपके हायकू पेश करना चाहता हूँ.

Alpana Verma अल्पना वर्मा said...

Haan Vilaas ji..Aap avshy inhen share kar sakte hain.

Abhaar,
Alpana

vilas khade said...

धन्यवाद!

vilas khade said...
This comment has been removed by the author.