December 8, 2009

'अपनी शर्तो पर जीना'


'अमल 'नाम की हमारी एक सहकर्मी थी जो जॉर्डन देश की रहने वाली थी ,जब भी वह स्टाफ रूम में आती तब माहौल ख़ुशगवार हो जाता था.क्योंकि वह बहुत ही हँसमुख स्वभाव की थी.हमेशा पूरे मेक अप में रहती थी.
शक्ल सूरत में बहुत ही साधारण ,कद कोई ५ft २'' रहा होगा.
वह अगले महीने अपने प्रेमी से शादी कर रही थी.प्रेम संबंध भी प्रगाढ़ थे.. अपने प्रेम संबंधो की खूब बातें सुनाया करती थी. सभी रश्क करते थे की इतना प्यार करने वाला पति मिल रहा है उसे!

महीने भर बाद शादी करके आई तब बेहद खुश थी ,मगर चेहरे पर कोई मेकअप नहीं देख कर सब ने सवाल कर डाले..
उसने बड़े गर्व से कहा की उसके पति उस से इतना अधिक प्यार करते हैं वे नहीं चाहते की उन के अलावा कोई और उस को देखे.हम मज़ाक में कहते थे की अमल ध्यान रखना उन्हें नौकरी मिल जाएगी तो तुम्हें तो ताले में बंद कर के जाया करेंगे!वह स्टाफ रूम मे आते ही सब से पहले अपने लोकर से मेक अप का समान निकालती और इतमीनान से सजती ,घर जाने से पहले चेहरे से सारी सजावट उतारती.

कुछ दिन सब ठीक ठाक चलता रहा .एक दिन परेशान सी थी मगर पूछने पर हंसकर बताने लगी की उसके पति ने उसके मोबाइल से जितने भी पुरुष सहकर्मियों /या कहिए जितने भी पुरुष नाम थे सब मिटा दिए उसे बताया भी नहीं . दिन बीते , ६ महीने हो गये थे मगर उसके पति को अभी तक कोई नौकरी भी नहीं मिल रही थी.
उसने अपनी सास को विज़िट वीसा पर बुलाया,लेकिन उनके आते ही अमल पर अभी तक माँ ना बन पाने के कारण पूछे जाने लगे .रोज़ के सवालों से तंग आ कर अमल ने अपने सारे टेस्ट करवाए,परीक्षणो से पता चला की वह पूरी तरह से नॉर्मल थी.पति जो उस से बेइंतहा प्यार करने के दावे किया करता था अब अपना टेस्ट करवाने को तैयार नहीं था.आख़िर कार डॉक्टर के समझाने पर उसने अपने टेस्ट करवाए .कमी उसी में निकली जिसे ना तो अमल की सास स्वीकार कर पाई ना ही उसका पति. हमेशा खुश रहने वाली अमल अब बुझी बुझी रहती थी.उसकी सास ने उसे बांझ कह कर ताने देना शुरू कर दिया था.

एक महीने की विज़िट में ही इतना कुछ हो गया..अलेएन चूकि छोटा शहर है इसलिए अपनी सास की तस्लली के लिए अबूधाबी के बड़े प्राइवेट हस्पताल से भी दोनो ने टेस्ट करवाए मगर परिणाम वही..!लेकिन मानना तो किसी ने था नहीं इसलिए उसकी सास दूसरी शादी करवाने की धमकी दे कर चली गयीं.पति जो अब तक बेहद प्यार दिखा रहा था..अपनी माता जी के आगे जैसे सारा प्यार काफूर हो गया था.

सच है प्यार भी समय और परिस्थिति का मोहताज है ..सच्चा प्यार सिर्फ़ किताबों में ही होता है वास्तविकता का उस से कोई लेना देना नहीं है...यह हम सब के सामने उस के केस से प्रमाणित हो गया था.

अब अमल ने एक बड़ा निर्णय लिया..चूकि उसे बार बार ऐसी ग़लती के लिए दोषी बताया जा रहा था जो उस ने की ही नहीं थी.पति भी खुद की कमी स्वीकारने को तैयार नहीं ..उस ने तलाक़ लेने का फ़ैसला किया ..और शादी के एक साल पूरे होने से पहले ही उसने तलाक़ ले लिया ..अब...अमल ने अपने रिश्तेदारों में ही ऐसे व्यक्ति को ढूँढना शुरू किया.[जॉर्डन में मुस्लिम रिवाज़ के अनुसार वे अपने रिश्तेदारों में शादी कर सकते हैं.]
ऐसा पुरुष' जिस से उस की पत्नि को अभी हॉल ही में नवजात शिशु हुआ हो..और उस ने ऐसे व्यक्ति को खोज भी निकाला.
फोन पर बातें होने लगीं. फ़ोन पर ही उसने शादी का प्रस्ताव रखा जिसे अब्दुल्ला ने स्वीकार भी लिया.अब फ़ोन पर ही उसने सगाई की और शादी भी.काग़ज़ सब तैयार हो गये.जब अमल के वीसा पर यहाँ आया तब उसने बताया की इस दूसरे निकाह की खबर उसने अपनी पत्नी को नहीं दी है जिसके कारण वह सिर्फ़ २ महीने रह सकेगा. अमल का उद्देश्य खुद को पूर्ण स्त्री साबित करना था.इसलिए उसे इस बात से दुख तो ज़रूर हुआ लेकिन अफ़सोस नहीं.ईश्वर ने उसकी सुनी और उसी साल उसके जुड़वाँ बेटे हुए.पति तो दो महीने रह कर चला गया था...अब वह यहाँ अकेली थी तो उसने अपनी माँ को अपने पास बुलाया hai.आज उसके दोनो बच्चे swasth हैं और दो साल के हो गये हैं.अमल खुश है उसे कोई अफ़सोस नहीं है.[naam badal diye gaye hain]

खुद को पूर्ण स्त्री साबित करने के लिए उस ने अगर कुछ खोया है तो बहुत कुछ पाया भी है.ऐसा कदम हर कोई नहीं उठा सकता.अमल में आत्मविश्वास था उसके आत्मविश्वास का एक कारण उसकी नौकरी भी थी जिस का सहारा उसे था ही ,इसीलिए भी वह अपने जीवन के निर्णय खुद ले पाई.
जीवन में उसने इतना बड़ा निर्णय लिया शायद इसीलिए क्योंकि उसके पति ने उसे तब सहारा नहीं दिया जब उसे उसकी सब से अधिक ज़रूरत थी.परिवार में बिना किसी दोष के उसे दोषी बनाया जा रहा था.यह उस के मन पर लगे आघात का परिणाम था या फिर एक प्रतिशोध ...या फिर समाज में खुद को पूर्ण स्त्री साबित करने के लिए यह कदम उठाना उस के लिए आवश्यक था.




आज का गीत
'रात और दिन दिया जले ,मेरे मन में फिर भी अंधियारा है,
जाने कहाँ है वो साथी ,तू जो मिले जीवन उजीयारा है'

खुद नहीं जानू ढूँढे किस को नज़र, कौन दिशा है मेरे मन की डगर,
कितना अजब है दिल का सफ़र ,नदिया में आए जाए जैसे लहर!'

ये बोल हैं उस गीत के जो मैं आज यहाँ प्रस्तुत कर रही हूँ.
Play or download Mp3





[vartani trutiyan aur roman mein likhne ka karan transliteration ka unreachable hona hai.Mother-child Chitr Google se sabhaar]

70 comments:

महफूज़ अली said...

संस्मरणात्मक रूप से यह लेख बहुत अच्छा लगा..... और गीत तो बहुत सुंदर है.....

Devendra said...

प्रेरक कथा
मधुर गीत

Dr. Mahesh Sinha said...

कितनी इंसानियत है इन देशों में ?

mukti said...

अल्पना जी,
अमल निश्चय ही बहुत साहसी हैं, जो ऐसा कठोर निर्णय ले पायीं. और जैसा कि आपने खुद लिखा है कि इसका कारण उनका आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होना है. एक स्त्री अपनी पूरी निष्ठा के साथ किसी को प्यार करती है, और उससे प्यार और सम्मान मिलना तो दूर रहा, उल्टे मिथ्यारोप मिले तो स्त्री को इस प्रेम के भ्रमजाल से निकल आना चाहिये. लेकिन मैं आपकी इस बात से सहमत नहीं हूँ कि सच्चा प्रेम सिर्फ़ किताबों में होता है. इस दुनिया में अब भी ऐसे लोग(पुरुष) हैं जो प्रेम के लिये अपने परिवार और समाज से लड़ने को तैयार हो जाते हैं. हाँ, ये ज़रूर है कि इसकी क़ीमत उन्हें चुकानी पड़ती है.

मोहन वशिष्‍ठ 9988097449 said...

Alpna ji bahut behatrin prastuti hai ji aanand aaya padhkar I m come back

मनोज कुमार said...

यह आलेख मानव मूल्यों के संधर्ष को एक नई आवाज तथा पहचान देता है। जिन्दगी को एक नए नज़रिए से देखने की ताक़त देता है।

योगेश स्वप्न said...

hindustan men to bahut hota hai aisa lekin itna sahas shayad hi koi dikh pati hain. mahilaon ko prerna deti katha.

madhur geet. badhaai.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

गीत और पोस्ट दोनों हृदयस्पर्शी हैं!
मेरी श्रीमती जी आपके गाये गीतों को
अवश्य सुनतीं हैं जी!

खुशदीप सहगल said...

पुरुष अपनी कमज़ोरी (जेहनी) स्वीकार नहीं कर सकता...यही उसकी सबसे बड़ी कमज़ोरी है... कथा और गीत...दोनों शानदार...

जय हिंद...

सुलभ सतरंगी said...

सुन्दर कथा प्रस्तुति

रंजना [रंजू भाटिया] said...

प्रेम के नाम पर क्या क्या नहीं होता ...आज कल के माहौल में अपनी आर्थिक स्वतंत्रता बहुत जरुरी है ...इस लिए वह अपने फैसले खुद ले सकी ...

मीत said...

अल्पना मेम!
कभी कभी खुद पर गुस्सा आता है की मैं उस दुनिया में रहता हूँ जहाँ अमल के पति जैसे लोग रहते हैं...
आपकी यह पोस्ट वास्तव में बहुत प्रेरणात्मक है... लेकिन क्या ऐसा नहीं हो सकता था की अमल भी दूसरी शादी कर लेतीं... मैं मानता हूँ की अब उसका किसी पर भरोसा नहीं रहा होगा लेकिन, किताबों और कहानियों जैसा प्यार अब भी मिलता है जरुरत है उसे ढूँढने की...उसे महसूस करने की, जो की कोई भी महसूस नहीं करना चाहता... बस बनावटी भंवर में फंस कर रहना चाहता है...
आपकी इस पोस्ट से ऑंखें नम हो गयीं हैं...
भगवान से गुजारिश है की वो अमल के बच्चों को इतना काबिल बनायें की एक दिन उसका वो पति जिसने उसे छोड़ा वो बेंतेहा जलन करे...उसे अपनी गलती का पछतावा हो...
मीत

Murari Pareek said...

सचमुच प्यार की सुगंध महज किताबों में बंद होकर रह गयी !!! और अमल ने तो सचमुच एक साहसिक कार्य तो किया ही और अपनी आत्मिक संतुष्टि भी पा ली !

दिगम्बर नासवा said...

आपकी इस पोस्ट ने बहुत कुछ कहा है ....... मैने भी इतने वर्षों में इस देश में रहते हुवे कई बार इस बात की महसूस किया है की इतनी पाबंदी होते हुवे भी यहाँ स्त्री ज़्यादा स्वतंत्र हो कर निर्णय ले पाती है ......... पता नही कैसे ........ पर ये बात अपने देश में नज़र नही आती ......... पर जो बात असल मुद्दे की है वो यही है की ये सब अंत में स्त्री को ही क्यों सहना और साबित करना पढ़ता है ........ बहुत ही संजीदा पोस्ट ....

रश्मि प्रभा... said...

प्रेम ! कहानी एक सीख है और आपका गीत......मैं सुन रही हूँ,झूम रही हूँ

रंजना said...

सच है प्यार भी समय और परिस्थिति का मोहताज है ..सच्चा प्यार सिर्फ़ किताबों में ही होता है वास्तविकता का उस से कोई लेना देना नहीं है...

KYA KAHUN...BAHUT VARSH TAK IS VAKY KO NAKARNE KA PRAYATN KIYA MAINE...PAR AB LAGTA HAI YAH SAHI HAI....VIRLE HI INSAAN DHARTI PAR HAIN,JO DAWA KAR SAKTE HAIN KI UNKA PREM PARISTHTI AUR SAMAY KA MUHTAAZ NAHI....


SAHELEE NE JO BHI NIRNAY LIYE PARISTHITI AUR BHAVUKTA ME AAKAR LIYE,USE HAM US PARISTHTI SE BAHAR RAHKAR SAHI GALAT NAHI THAHRA SAKTE....
HAAN, YAH BILKUL SAHI KAHA AAPNE,APNE PAAS YADI AARTHIK AATMNIRBHARTA HO TO STREE APNE MAAN SAMAAN KI RAKSHA BEHTAR KAR SAKTEE HAI..PARASHRIT HO GHUT GHUT KAR JEENE KEE USKEE VIVASHTA HI USKE JEEVAN KEE SABSE BADI ABHISHAAP BAN JAYA KARTEE HAI...

IS PRERNAPRAD AALEKH KE LIYE AAPKA SADHUWAAD....

M.A.Sharma "सेहर" said...

Bahut khoob...naree yadee tyaag,dhary va samarpan se saraboor hai to samay aane par aapnaa maan rakhna bhee janti hai....
Great !!

Your vioce is soo melodious ..

aaj pahlee baar aayi hun yahan Alpana ji..


Interesting blog...!

अमिताभ श्रीवास्तव said...

prem, hota hi nahi,kitabo me mahaz gyaan bhagharne ke liye hota he, mujhe lagtaa he prem jab kiya jataa he to usaka ant bhi nishchit hota he, prem ho to hi vo sthaaibhav me hota he/ par afsos prem hota nahi, kiya ja rahaa he...
aour esi kahaniya banati jaa rahi he..,
aapka lekhan marm ko jhakjhorta he, geet laazavaab he...

वन्दना अवस्थी दुबे said...

औरत की स्थिति कमोबेश हर जगह एक ही जैसी है. बढिया संस्मरण.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

ये तो एक मानवी प्रवृ्ति है कि इन्सान अपनी कमियों को या तो जानबूखकर अनदेखा करने का प्रयास करता है,अथवा उन्हे किसी दूसरे पर मडने का प्रयत्न करता है । ऎसे बहुत कम लोग होंगें जो उन्हे स्वीकार कर पाते हैं.......बहरहाल आपकी सहकर्मी नें बहुत हिम्मत का परिचय दिया जो कि वो अपने जीवन में इस प्रकार का निर्णय ले पाई....

Anonymous said...

Excellent + +
Keep it up!


-Kamath,TN

नीरज गोस्वामी said...

बहुत प्रेरक पोस्ट...और गीत...हमेशा की तरह...मन मोहक...
नीरज

Mired Mirage said...

स्त्री के अधिकार छीनने के लिए प्यार का ही नाम लिया जाता है। उसे मेक अप न करने देना, मोबाइल से नम्बर हटाना, यह सब शुरुआती लक्षण थे। शुरू में यह सब स्त्री को प्यार के नाम पर ठीक भी लगता है। अच्छा हुआ कि ऐसे व्यक्ति से पीछा छूट गया।
घुघूती बासूती

Nirbhay Jain said...

bahut sundar achna!!!!!!!
atmaviswash se kuch bhi kiya ja sakta hai..

vedvyathit said...

yh pyar jaise natk ka ptapeksh hai bhart men bhi tihas mem yh sahs tha prntu samajik tane bane ke andr tha niyog vyvstha isi ka udahrn hai jo ki samajik roop se svikrit tha prntu jarj santan me esi ki himakt thi jise manyta nhi thi jyotish men jarj yog ka jikr aata hai tatha is ka dorupyog bhi huaa ydi mhila men sahs hi tha to pti ki samne hi use sntan utnn kr ke dikhani chahiye thi tb use btati ki dekh yh mrd hai tb vh tlak leta or vh sahs se khti ki yh sntan is ki nhi hai koyon ki yh namrd hai prntu itna sahs aurt men khan hai
dr. ved vyathit faridabad
email dr.vedvyathit@gmail.com

ताऊ रामपुरिया said...

पूरा आलेख पढने के बाद यह समझ आया कि इस आलेख की सम्प्रेषण शक्ति इतनी गजब की थी इसको अक्षरश पढा गया. आलेख जब खत्म होता है तब तक बहुत कुछ सोचने को बाध्य कर चुका होता है.

सबसे पहले तो आपको इस विषय पर इतने सटीक आलेख के लिये धन्यवाद.

निजी रुप से मेरा ऐसा सोच है कि जो निर्णय अमल ने खुद के लिये वो कहीं कचोटते भी हैं पर आज की नारी के लिये वो अनुकरणीय हैं.

आखिर नारी भी क्युं घुटती रहे? सिर्फ़ इसलिये कि वो नारी है.

गीत हमेशा की तरह कर्णप्रिय है. शुभकामनाएं.

अर्शिया said...

अल्पना जी, सच्चा प्यार ही नहीं, सम्पूर्ण मानव जाति परिस्थितियों की दास है। जब जैसी परिस्थिति होती है व्यक्ति उसके अनुसार काम करने के लिए मजबूर होता है।
------------------
शानदार रही लखनऊ की ब्लॉगर्स मीट
नारी मुक्ति, अंध विश्वास, धर्म और विज्ञान।

अबयज़ ख़ान said...

तारीफ़ के लिए अलफ़ाज़ नहीं हैं.. मैने अबतक आपका गीतों वाला ब्लॉग ही देखा था.. ये तो उससे भी कमाल है... लेकिन गीत वाला ब्लॉग तो मेरे लिए किसी दोस्त से कम नहीं है... अकेलेपन का साथी है..

BrijmohanShrivastava said...

उन्होंने जो निर्णय लिया -अपने हिसाब से लिया -और जो भी किया सही किया ।इसलिये उनके निर्णय को सही या गलत कहना या ऐसा नही वैसा करना था -ऐसी किसी टिप्पणी से अलग हट कर बात करें तो अक्सर जो पुरुष शंकालु होते है वे निश्चित किसी विकार से ग्रस्त होते है ।शंका चाहे महिला हो पुरुष हो सबमे कमोवेश पाई ही जाती है ,लेकिन किसी मे अतिरेक हो तो वह बीमारी होती है ।महिला की आत्मनिर्भरता के लिये आर्थिक पहलू महत्वपूर्ण है , । यह अशिक्षा या मूर्खता की पराकाष्ठा है कि चिकित्सीय रिपोर्ट के बाद भी व्यक्ति अपनी कमी स्वीकार नही कर पाता है । मै किसी की आलोचना नही कररहा लेकिन जो भी कह रहे है कि आज भी सच्चा प्रेम है उन्हे एक दिन प्रेम और स्वार्थ का अन्तर समझ आ सकता है । यह भी मैने देखा है कि जब स्त्री-पुरुष दौनो की जांच का प्रश्न होता है पुरुष हमेशा पीछे हटने की कोशिश करता है कि कही उसमे दोष न निकल आये ,उसके पुरुषत्व को ठेस न लग जाये ,जब कि चिकित्सीय कमी पुरुषों मे ही निकलती है और हमेशा से औरत को दोषी ठहराया जाता रहा है ।वास्तविक और तर्क युक्त लेख बहुत अच्छा लगा ।

BrijmohanShrivastava said...

पुनश्च: आज आपकी दस साल पहले लिखी रेखा नामक कहानी भी पढी और रात और दिन दिया जले वाला गाना भी सुना ,रेखा नामक कहानी की मूल प्रति भी देखी ,अच्छा लगा

Dr. Mahesh Sinha said...

बृजमोहन जी ने बिलकुल सही कहा

JHAROKHA said...

पुरुष प्रधान समाज की मानसिकता पर तीखा प्रहार करने वाला लेख---बहुत सुन्दर शब्दों में आपने इस संवेदनशील मुद्दे को संजोया है।
पूनम

दिलीप कवठेकर said...

हम जब अपने समाज में ये बुराईयां देखतें हैं तो संवेदनशील मन धुखी हो जाता है. दूसरे देशों में भी जब यही हकीकत सामने आती है तो लगता है कि कुछ ’सिक’ मानसिकतायें हर जगह हैं.

मगर पता नहीं क्यों,पुरुष के साथ स्त्री भी इस मानसिकता की दोषी है. क्योंकि सास भी एक स्त्री ही है.

दिलीप कवठेकर said...

बाद में गीत भी सुना अभी और अब बस क्या कहें...

This song has expression of grief and sorrow , drenched with emoting words, and you have not only sang with full swar management but also have kept the feelings live by your equally expressive voice.

Mixing is also perfect.

Ashish (Ashu) said...

सुन्दर शब्द-चित्र !
ह्रदय स्पर्शी लेखन है आपका
बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! लाजवाब
साभिवादन

KK Yadav said...

Sundar sansamaran....adbhut geet...!!

गौतम राजरिशी said...

पुरुष जाति का ये नित नया रूप अजीब वितृष्णा से भर देता है मन।

गीत नहीं सुन पा रहा मैम!

हरकीरत ' हीर' said...

फिर खामोश कर दिया आपकी पोस्ट ने .....सोच रही हूँ कितनी चोट सही होगी उस स्त्री ने जिसने इतना बड़ा कदम सिर्फ अपनी सच्चाई पेश करने के लिए उठाया ......मेरा नमन उस स्त्री को ...उसके साहस को .....रब्ब उसे उन दोनों बच्चों की परवरिश के लायक बनाये ......!!

mehek said...

amal sach mein abhut sahasi nikli.bahut kuch khokar kuch khishiya bhi paa li usne.
gana hameha ki tarah madhur.

Harsh said...

insaniyat naam ki koi cheej hi ab nahi bachi hai...........

MUFLIS said...

"mere mn meiN phir bhi andhiyara hai..."
ek aur bahut hi sachchaa geet sunvaaya aapne....t h a n k s
(beats ke pichhe bhaagne se zyaada achaa hai k beats ko apne peechhe lagaa liyaa jaae...is geet meiN lagaa mujhe aise...plz dont take it otherwise...)
abhi meri farmaayish pending chal rahi hai...!?!

Roshani said...

Behad Bhavnatmak.....bahut hi accha laga Alpna ji.

Parasmani said...

अमल की कहानी अच्छी लगी. एक ज़माने में बच्चा न होने पर या तो फिर सिर्फ लड़कियाँ होने पर औरत को ताने मिलते और कभी कभार ज़िन्दगी से हाथ धोने पड़ते और मर्द को मिलती दूसरी बीवी. अफ़सोस की बात है...

psingh said...

बेहतरीन रचना
बहुत -२ हार्दिक शुभ कामनाएं

Anonymous said...

Bahot khoob..
Alpana ji..
wah wah..
Agar hosake to hamari pasand ke song hai.. agar wo aap ki bhi pasand ho to zaroor record kijiye..
Aap choice karein..
A. Mausam hai Ashiqana (Lata ji)
B. Aye dil mujhe batade (Geeta Dutt)
C. Parde mein rahne do (Asha ji)
D. Dil deewna bin sajna ke (Lata ji)



Ummeed ke aap ko bhi ye gaane bahot pasand honge..

Main intezar karoonga... waqt nikaliye.. aur record kijiye..

Thanks & Regards
Aap ka chhota sa bhai
Muftin

सुलभ सतरंगी said...

पिछली बार आया था तो हरबड में था. आज ध्यान से पढ़ा.
मुक्ति जी की टिप्पणी से सहमत.

ये प्यार नहीं था. ये विवाहपूर्व और विवाह पश्चात के एक संकीर्ण और कमजोर पुरुष के व्यवहार हैं. उक्त महिला के लिए दुखद ये रहा की उसका प्रेमी न तो वैवाहिक सम्बन्ध को निभाने वाला जिम्मेदार पति था और ना ही एक संवेदनशील इंसान. बाद में महिला ने वही किया जो उसे उत्तम विकल्प लगा. वह स्वतंत्र थी इसलिए कोई भी निर्णय उसके व्यक्तिगत जीवन के मद्देनजर उचित ही कहलायेगा.

सुलभ सतरंगी said...

और हाँ, अभी गीत नहीं सुन पा रहा हूँ. शायद ऑनलाइन प्लयेर में गड़बड़ी है. डाउनलोड पर लगा दिया है.
बाद में जरुर सुनूंगा..

शुभ रात्री.

Suman said...

nice

शमीम said...

Wakai, Sansmaranatmak raap me likha gaya gaya yeh lekh acha laga.Ek sandesh bhi deta hai yeh lekh.Aabhar.

बुझो तो जानें said...

Ek aachi rachna jo bahut kuch sikhne ke liye prerit karti hai.

psingh said...

बहुत खूब सुन्दर रचना
बहुत -२ धन्यवाद

hem pandey said...

स्त्री की स्थिति लगभग पूरी दुनिया में कमजोर है.
हमेशा की तरह कर्ण प्रिय आवाज में गीत की प्रस्तुति के लिए साधुवाद.

गर्दूं-गाफिल said...

achchh geet
prerak katha

http://abebedorespgondufo.blogs.sapo.pt/ said...

Good.
Portugal

काजल कुमार Kajal Kumar said...

प्यार एक मन:स्थिति है. बस.

सुशीला पुरी said...

काश अमल की तरह स्त्री अपने शर्तों पर जी पाती ......

Dr Sridhar Saxena said...

Dear Alpana ji ,
'Agar bewafa tujhko'... Aapka geet suna....
hamesha ki tarah behtereen gaya hai aapne...dil se gaya hai ...kahin koi puraani yaadein????
LOL...kidding ...amazing progress you are making in this field...
congrats...best regards

Dr Sridhar Saxena

ज्योति सिंह said...

kitabo me chhapte hai chahat ke kisse ,haqikat me iski jagah koi nahi ,is lekh ko padhkar ye geet yaad aa gaya ,vandana ne sahi kaha hai ,aap aai behad khushi hui ,kyonki aap me apne mitr ki jhalak dekhi rahi ,saath hi aap banasthali se bhi judi hui hai .kahi to mel hai ,yahi aas hi sahi .rachna bahut achchhi rahi .gaane aapke meri pasand liye huye hai

Ravi Rajbhar said...
This comment has been removed by a blog administrator.
सुभाष चन्द्र said...

हजारों मील की दूरी पर रहते हुए भी अपने लोग और अपनी सोंधी माटी की महक आपके जेहन में उमरती है। यह बहुत बड़ी बात है। वर्तमान में जब पड़ोसियों को एक-दूसरे से मिलना-जुलना नहीं सुहाता, वैसे में आपके जज्बे को प्रणाम।
आपकी रचनाओं को पढऩे का मौका मिला। काफी अच्छा लगा। आपके पूरे ब्लॉग को खंगालने के बाद यह कहने में तनिक भी संकोच नहीं होता कि आपकी रचनाएं सामाजिक चेतना, मानवीय संवेदना और इनसानी जटिल प्रवृत्तियों की अभिव्यक्ति का दस्तावेज है। कहीं सपनों की सरसराहट, भावुकता की गुदगुदाहट का एहसास होता है तो अगले ही पल ठोस स्थितियां जीवन की वास्तविकता का बोध कराती है।
इस मणिकांचन संयोग के लिए आपको साधुवाद। साथ में अपेक्षा बढ़ती जाती है कि आपकी आगामी रचनाएं भी इसी प्रकार पढऩे को बाध्य किया करेंगी।
सुभाष चंद्र
नई दिल्ली
09871846705

अल्पना वर्मा said...

Ravi Rajbhar has left a new comment on your post "'अपनी शर्तो पर जीना'":

Dil se samman apki sunder lekhni ko..
Verma jee ish geet ki awaj to kis bollywod singer se nahi milti hai kya ye aapki awaj kai......?
Please mujhe jarur batayen..: :)

डॉ .अनुराग said...

लगता है स्त्री की दुनिया में कही ज्यादा बदलाव नहीं है ..यहां हो या वहां ...बस चेहरे बदलते है .किरदार नहीं !

गिरीश पंकज said...

aapka blog blog naheen baag hai. jise dekh kar dil baag-baag ho gaya. badhai. apki soch ka bhi, khas kar desh ke prati.
door vatan se rahati hoo par, mitti sadaa bulati hai.
isiliye to yaad hamesha mujhe desh ki aatee hai.

शोभना चौरे said...

chali jati hai fir bhi sahas se jee uthti hai striya .
bahut sundar snsmrnatmk aalekh .

शोभना चौरे said...

chali jati hai fir bhi sahas se jee uthti hai striya .
bahut sundar snsmrnatmk aalekh .

संजय भास्कर said...

chali jati hai fir bhi sahas se jee uthti hai striya .
bahut sundar snsmrnatmk aalekh .

ज्योति सिंह said...

सच है प्यार भी समय और परिस्थिति का मोहताज है ..सच्चा प्यार सिर्फ़ किताबों में ही होता है वास्तविकता का उस से कोई लेना देना नहीं है...यह हम सब के सामने उस के केस से प्रमाणित हो गया था.
bahut sahi kah rahi hai aap ,
milta hai to chhapd phad ye kahavat aapki tippani sabit kar di ,aap blog par aakar kai rachna pe apne vichar chhod gayi aur main aaj dekhi ,byaan nahi kar sakti kitni khushi hui ,aankhe nam ho gayi ,nari ka sahyog naari ko mile
us sakti ki baat alag hoti ,main hamesha inhe jodkar rakhne ki koshish ki ,chahti hoon ek din wo har dukh se ubhare ,aur aadhiptaya unka ho ,shayad adhik kah di magar ,man kyo kah gaya ye nahi jaanti .

डॉ. मनोज मिश्र said...

सच है प्यार भी समय और परिस्थिति का मोहताज है ..सच्चा प्यार सिर्फ़ किताबों में ही होता है वास्तविकता का उस से कोई लेना देना नहीं है..
ekdm sach.

Arvind Mishra said...

सुखान्त ....

Mrs. Asha Joglekar said...

हिम्मत वाली है अमल पर अपनी निर्दोष और स्वस्थ होने का प्रमाण तो उसने दे ही दिया । क्यूं स्त्री को ही अग्नि-परिक्षा से गुजरना होता है हर समाज में ।