Search This Blog

November 9, 2008

एक कविता-एक गीत -'डर '

कविताई की सीमाओं में न बंधते हुए..कुछ शब्दों को बाँधने की कोशिश रहती है..कई बार किन्हीं पंक्तियों को कोई रूप मिल जाता है--कई बार यूँ ही मुठ्ठी में बंधी रह जाती हैं..देखें यूँ ही चलते-चलते क्या लिखा है....

रात के आने से,

उसकी तन्हाईयों से डर लगता है..

भीगती हैं पलकें,

ख़ुद के बह जाने का डर लगता है..

जिसको देखा भी नहीं,दिल ने उसको चाहा है...

क्यूँ क़दमों के बहक जाने का डर लगता है?

वो मिले या ना मिले ,मगर--

...ख़ुद के खो जाने का डर लगता है!

---------------------------------------------------------------------

समय मिले तो एक गीत भी सुनियेगा -
-ये मूल गीत नहीं है न ही तुलना करियेगा-क्यूँ कि बस यूँ ही गुनगुना रही हूँ -आप को सुना रही हूँ...:)
'तेरा -मेरा प्यार अमर फिर क्यूँ ....'मुझे बहुत पसंद है --आशा है आप को भी पसन्द आएगा.

37 comments:

sanjay patel said...

ग़ज़ल में सुन्दर क्राफ़्ट नज़र आता है आपकी.
मीटर की थोड़ी सी कसावट से ये एक उम्दा ग़ज़ल बन सकती है.
बधाई.

"अर्श" said...

करेओके पे बहोत ही सुंदर काम किया है आपने अल्पना जी ,वह मज़ा आगया ,इसे ग़लत न ले मगर कहीं कहीं मात्र में कमजोरी मिली इसलिए कह दिया ... अगर काराओके पे आपने ये काम किया है ...
बहोत सुंदर मज़ा आ गया ..

बहोत बधाई...

"अर्श" said...

तेरे आंखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है ..
ये तो काफी मशहूर गीत है काफी सुना हुआ .....
ऊपर का सुर थोड़ा कमजोर लगा बाकि तो उम्दा ,मजा आगया बहोत सुंदर .... आपके ब्लॉग पे पहली बार आना हुआ बहोत मजा आया .. आपको बधाई देने केलिए मेरे पास शब्द नही है ......

अल्पना वर्मा said...

@Sanjay ji shukriya aap ke comment ka--main koshish karti hun ki in panktiyon se ghazal bana sakun--mere to khyal mein nahin aaya-ki aisa ho sakta hai--

@--arsh ji' aap pahli baar mere blog par aaye swagat hai--main gaane sirf shaukiya gati hun--abhi kuchh samay se shuru kiya hai--karaoke -mixing-recording sab net se sikhi hai--isliye studio recording ya playback wali koi quality nazar nahin aayegi--:D--

headphone ke mic se recording ki hai ideal jo nahin honi chaheeye--lekin-aur haan sur--to mere haath kabhi aatey hain kabhi nahin--:)--

-teri aankhon ke siwa--ek bahut mushkil gaana hai[madan mohan ji ki composition]-is liye high notes mein jarur gadbad hui ho sakti hai--Aap ne apna waqt diya bahut achcha laga---aagey bhi aatey raheeye-'thodey besure-kuchh sureeley geet lekar aayungi--:)
-encourament ke liye shukriya :)

Parul said...

good one alpanaa

Suresh Chandra Gupta said...

आप लिखती अच्छा हैं और गाती भी अच्छा हैं. वधाई.

राहुल सि‍द्धार्थ said...

छोटी कविता लेकिन अच्छी,वैसे आप गाती भी अच्छी हैं.

Gyan Dutt Pandey said...

कवित सुन्दर है। मुझे विनोबा के प्रवचन याद दिलाती है। महाभार्रत जीतने तो जिन दैवी गुणोँ की सेना बनायी जाती है उनमेँ सबसे आगे है अभय और सबसे पीछे कवर करने को है - अभिमान का अभाव!
आपके निमित्त याद आया! धन्यवाद।

hempandey said...

' ख़ुद के खो जाने का डर लगता है '- बहुत अच्छे !

"अर्श" said...

हिन्दी ब्लॉग टिप्स में एक आप्शन है अपने ब्लॉग पे ताला लगायें (टैक्स्ट चोरी रोकें ) इसमे आप्शन आएगा ऐड गजेट उसको आपको लेआउट में ..... कॉपी पेस्ट करनी परेगी बहोत आसन है जरुर करें..

अर्श

सुरेन्द्र Verma said...

ख्यालात अच्छे हैं. आत्मविश्वास बढाएं .

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही खुब सुरत, कविता के साथ साथ आप का गीत भी पसंद आया
धन्यवाद

शोभा said...

अल्पना जी,
आपकी आवाज बहुत मधुर है. कविता तो अच्छी है ही. गीत सुनकर आनंद आ गया.

mehek said...

wo mile ya na mile khud ke kho jane ka dar lagta hai,waah bahut khubsuraat

aur aawaz ka jadu aur romani sa purana geet to subhan allah.bahut khub

sandhyagupta said...

Dil ko chu gayi...

guptasandhya.blogspot.com

bhoothnath said...

सच रात को तो खो जाने का डर होता ही है....नदी में बह जाने का डर तो होता ही है.......आदमी की भीड़ में खो जाने का डर........

dr. ashok priyaranjan said...

जीवन के सच को साथॆक तरीके से अिभव्यक्त िकया है । अच्छा िलखा है आपने ।

http://www.ashokvichar.blogspot.com

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

ख़ुद के खो जाने का डर लगता है
बहुत सुंदर भाव है! गायन भी प्रभावशाली है!

seema gupta said...

भीगती हैं पलकें,

ख़ुद के बह जाने का डर लगता है..
" these are very touching and mind blowing thoughts , nicely expressed, loved hearing song too.."

Regards

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

ख़ुद के खो जाने का डर लगता है!...

अंतिम पंक्ति वास्तव में अंतिम नही लगती.. बहुत गहराई लिए हुए है.. गीत अभी सुन नही पाऊँगा.. सुन कर टिप्पणी करेंगे..

Anonymous said...

ye jawab hai--
उसकी तनहाइयों से क्यूँ डरते हो

खूबसूरत पलकें क्यूँ भिगोते हो

वो समंदर है , कोई भंवर तो नहीं

फिर भी बह जाने से क्यूँ डरते हो.

ये तो एहसास है खूबसूरत सा ..

ख़ुद के खो जाने से क्यूँ डरते हो.

.. bahut si galtiyan hogi muje chand band ke niyam nahin samajh mein aate..

डॉ .अनुराग said...

कई बार शब्दों को किसी विधा के नियम में बांधना जैसे उनके भीतर के भावो को धुंधला करने जैसा है.....आपने तो कागजो पर मन का कहा लिखा है....

Suresh Soni said...

khoobsoorat

Pragati Mehta said...

wah bahut khub..........ab to mujhe bhi dub jane ka dar satane laga hai................

Er. Avinash (Admin) said...

very nice poem n blog

संदीप शर्मा Sandeep sharma said...

अल्पना जी,
आपके कविता दिल को छूने वाली है.

कंप्यूटर में स्पीकर नहीं होने के कारन गजल नहीं सुन सका...

विनय said...

सचमुच कभी-कभी शनै:-शनै: यूँ भी लगने लगता है, बहुत सुन्दर रचना के लिए बधाई!

Abhishek said...

वो मिले या ना मिले ,मगर--
...ख़ुद के खो जाने का डर लगता है!
सही कहा है आपने. कभी-कभी ऐसा भी होता है. स्वागत मेरे ब्लॉग पर भी.

manas bharadwaj said...

aapka blog padha or ye kehte hue atishyoktii nahii hogii kii aapka blog mujhe abhi tak hindi madhyam se likhne waalon me sabse behtarin laga hai ........likhte rahiye or badhaiyaan aapko behtarin tarike se apne bhaavon ko sabdh dene k liye .......

Dr. Nazar Mahmood said...

अच्छी है रचना

योगेन्द्र मौदगिल said...

सुंदर रचना के लिये बधाई स्वीकारें

भूतनाथ said...

सुंदर भाव व्यक्त किए हैं आपने कविता में ! आपकी पोस्ट की तिपनिया पढ़ते २ आपका गायन भी सूना , बहुत मधुर और कर्णप्रिय स्वर ! बहुत शुभकामनाएं !

"अर्श" said...

आपकी आवाज़ में पता नही ये गीत मुझे क्यूँ बहोत अच्छा लगाने लगा है जब भी ऑनलाइन होता हूँ बस सुनाने लगता हूँ ,जबकि मैं ऊपर अपना कमेन्ट लिख चुका हूँ इसमे खामिओं के बारे में ,फ़िर भी मुझे आपकी आवाज़ में एक ग़ज़ब की कशिश मिलती है और हाँ सही कहूँ तो एक सुकून सा मिलता है ...
अल्पना जी आका ढेरो एहसानमंद हूँ मैं इस गीत के लिए ......
मेरा जीना मेरे मर इन्ही पलकों के टेल वह क्या बात है ......

आपको बहोत बधाई

"अर्श" said...

जी जरुर चाहूँगा ,आप मुझे जरुर से वो ई-मेल कर कर दे . आपसे एक बात और जानना चाहूँगा के आप ये कैसे प्रेपरे करती है और इसे कैसे रिकॉर्डिंग करती है कृपया बताएं

BrijmohanShrivastava said...

अत्यधिक भाव प्रधान रचना

Jimmy said...

bouth he aacha post kiyaa nice work



Shyari Is Here Visit Jauru Karo Ji

http://www.discobhangra.com/shayari/sad-shayri/

Etc...........

Vijay Kumar Sappatti said...

aaj ,pahli baar aapke blog par pahuncha.
pad kar bada sakun mila .
specially ye wali nazm - khud ke kho jaane ka dar lagta hai ..

nazmon mein kahaniya hai ..
dil ki baaton ki jubaniya hai ...

ab regular visit karung aur padunga .

agar fursat mile to mera bhi ek blog hai ,kabhi nazar daal dijiyenga .
mujhe poori umeed hai ki aapko meri nazmein pasand aayengi .

regards

vijay
www.poemsofvijay.blogspot.com