November 5, 2008

कहीं दूर चलें..



कहीं दूर चलें
-------------
सोचती हूँ आज ,कहीं दूर चलें,

गुनगुनाती शाम के धुंधलके में,
चाँद की रोशनी के मद्धम होने तक ,
तुम करो बातें और मैं सुनती जाऊँ .

फूलों की खुशबू और झरने के मधुर स्वर,
गिरते पानी की बूंदों को हवा -
-मेरी अलकों पर मोती सा सजाती ,
माथे पर गिरी बूंदों को तुम्हारी उँगलियों की छुअन-
सोयी आरजूएं जगा जाती लेकिन..
अधरों पर आ कर हर बात ठहर जाती.

रात की तन्हाईयों में ,सुबह ओस के गिरने तक...
दिल की हर उलझन सुलझ जाए,
रुसवा न हो चाहत ये ख्याल रहे...
रूह में उनकी मेरी रूह
यूँ समा जाए...

सोचती हूँ आज कहीं दूर चलें..

[--Alpana Verma]

23 comments:

डॉ .अनुराग said...

रात की तन्हाईयों में ,सुबह ओस के गिरने तक...
दिल की हर उलझन सुलझ जाए,
रुसवा न हो चाहत ये ख्याल रहे...
रूह में उनकी मेरी रूह
यूँ समा जाए...

सोचती हूँ आज कहीं दूर चलें..








अरसे बाद ....कुछ रूमानी सा आपकी कलम से पढने को मिला .......गुलाब ने उसे ओर रूमानी बना दिया है

रंजना [रंजू भाटिया] said...

अच्छे भाव और सुंदर ख्याल है ..कहीं दूर चले ...बहुत बढ़िया बहुत दिनों बाद आपका लिखा पढ़ा अच्छा लगा

seema gupta said...

रात की तन्हाईयों में ,सुबह ओस के गिरने तक...
दिल की हर उलझन सुलझ जाए,
रुसवा न हो चाहत ये ख्याल रहे...
रूह में उनकी मेरी रूह
यूँ समा जाए...

सोचती हूँ आज कहीं दूर चलें..
" very beautiful thoughts and words with romantic and loving touch." so nice to read you after a long time.

Regards

adil farsi said...

सोचती हूँ आज कहीं दूर चलें....सुंदर कविता है

MANVINDER BHIMBER said...

रात की तन्हाईयों में ,सुबह ओस के गिरने तक...
दिल की हर उलझन सुलझ जाए,
रुसवा न हो चाहत ये ख्याल रहे...
रूह में उनकी मेरी रूह
यूँ समा जाए...
आपका लिखा पढ़ा अच्छा लगा

रंजना said...

sundar .bhaavpoorn panktiyan hain..

chandrabhan bhardwaj said...

har subah achchhi lagi har sham bhi achchhi lagi;
aapse parichaya hua to zindagi achchhi lagi.

bhor men batiya rahi thi ik kali se ik iran,
os men bhigi tumhari tazagi achchhi lagi.

mehek said...

रात की तन्हाईयों में ,सुबह ओस के गिरने तक...
दिल की हर उलझन सुलझ जाए,
रुसवा न हो चाहत ये ख्याल रहे...
रूह में उनकी मेरी रूह
यूँ समा जाए...
haaye bahut khubsurat pal sajaya hai en panktiyon mein,dil mein kuch armaan jage:),bahut sundar rachana.

bahut dino baad aapse milna hua,hum achhe hai alpana ji, aasha hai aapki diwali bahut behtarin rahi hogi,belated wishes for diwali.apna khayal rakhiega.

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

SATYM SHIVAM SUNDARAM

अल्पना वर्मा said...

kavita par tippani kar ne ke liye aap sabhi ka dhnywaad :)..haan main yah sochti thi ki main kuch aisa nahin likh paungi.magar..kabhi kabhi..qalam ki tabeeyat bhi badal jaati hai...aisa anubhav hua abhi abhi...

kahin ek sher suna tha---'aankh se duur na ho dil se utar jayega'....main yah soch rahi thi ki meri absence mein mujhey bhuul gaye hongey sab...lekin sab kuch waisa hi paa rahi hun..aur wapas blog Jagat mein aa kar bahut achcha lag raha hai..:)--abhaar sahit-Alpana

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

बहुत पसँद आयी आपकी भावभरी सुँदर कविता ~~~

अनूप शुक्ल said...

सुन्दर!

अजित वडनेरकर said...

सुंदर अऩुभूतियां....

अवाम said...

बहुत ही सुंदर शब्दों का संचार इस कविता के माध्यम से रचा.

hindustani said...

बहूत खूबसूरत रचना है

dr. ashok priyaranjan said...

बहुत अच्छा िलखा है आपने । किवता में भाव की बहुत संुदर अिभव्यिक्त है । अपने ब्लाग पर मैने समसामियक मुद्दे पर एक लेख िलखा है । समय हो तो उसे भी पढे और अपनी राय भी दें -

http://www.ashokvichar.blogspot.com

pallavi trivedi said...

गुनगुनाती शाम के धुंधलके में,
चाँद की रोशनी के मद्धम होने तक ,
तुम करो बातें और मैं सुनती जाऊँ .

bahut roomani hai...lovely.

प्रदीप मानोरिया said...

बहुत सुंदर गहरे भावों को संजोये बेहतरीन कविता ... बधाई कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारें आशा है आपको पसंद आयेगा

प्रदीप मानोरिया said...

बहुत खूब आपने अपने विचारों को सुंदर तरीके से व्यक्त किया है आपका मेरे ब्लॉग पर स्वागत है

Yashwant Mathur said...


दिनांक 17/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
धन्यवाद!

-----------
अनाम रिश्ता....हलचल का रविवारीय विशेषांक...रचनाकार-कैलाश शर्मा जी

निहार रंजन said...

सुन्दर कविता.

Onkar said...

बहुत सुन्दर

Mamta Bajpai said...

बहुत बढ़िया जल्दी से निकल जाइए सैर पर