Search This Blog

June 16, 2008

'ज़िंदगी'

पिछली कविता के कमेंट्स में किसी अनाम व्यक्ति ने रोमांटिक कविता लिखने का आग्रह किया मगर करूँ क्या? मेरी कलम ऐसी ही कवितायें लिखती है जो उस श्रेणी में आती नहीं.
यह कविता भी कई साल पहले की लिखी हुई है--अभी कुछ नया नहीं लिखा है सो पुरानी डायरी से यह कविता आप की नजर करती हूँ-

ज़िंदगी
-------

क़तरा क़तरा छंटती जाती है ज़िंदगी

मायूसी के धागों में बटती जाती हैज़िंदगी

जब कभी आँख से मोती टपके
दरया बनके बहती जाती है ज़िंदगी

तनहाइयों के देश में अकेली ही
खुद में सिमटती जाती है ज़िंदगी

यूँ तो पहले ना थी उदास इतनी
जाने क्यों गुमसुम रहती है ज़िंदगी

गीत उनका गाती हूँ अगर
पायलें छनकाती है ज़िंदगी

साथ बिते पल जो याद आते हैं
हँसती है खिलखिलाती है ज़िंदगी

और क्या कहूँ....

यूँ ही लम्हा लम्हा कटती जाती है जिंदगी

हाँ ,कटती जाती है जिंदगी।

-अल्पना वर्मा

19 comments:

रंजू ranju said...

तनहाइयों के देश में अकेली ही
खुद में सिमटती जाती है ज़िंदगी

यूँ तो पहले ना थी उदास इतनी
जाने क्यों गुमसुम रहती है ज़िंदगी


बहुत सही लिखा आपने अल्पना ..

तन्हाई रास यूं अब आने लगी है मेरे दिल को
कि पास अब अपना भी कोई एहसास नही रहता

रंजू

नीरज गोस्वामी said...

अल्पना जी
कहना पड़ेगा की आप बहुत दिल से लिखती हैं इसीलिए आप की रचना बड़ी अपनी अपनी सी लगती है. बड़े ही प्यारे अंदाज़ में आपने अपने दिल की बात कह डाली है.
नीरज

vijaymaudgill said...

जब कभी आँख से मोती टपके
दरया बनके बहती जाती है ज़िंदगी

तनहाइयों के देश में अकेली ही
खुद में सिमटती जाती है ज़िंदगी

बहुत बढ़िया अल्पना जी। पढ़कर अच्छा लगा।
मैंने अपने ब्लाग पर वारिस शाह की हीर डाली है। यह हीर किसी गायक ने नहीं बल्कि एक फ़क़ीर ने गाई है, जो वारिस शाह के दरबार में बैठता है। हो सके तो सुनना। क्योंकि संगीत रूह को सुकून देता है।

अल्पना वर्मा said...

Ranjana ji aapne bhi kitna achcha jawab likha hai --wah wah!-
aur neeraj ji aap ko padhna bhi utna hi ruchikar lagta hai mujhe bhi....
aap dono ko bahut bahut dhnywaad

-
kin shbdon mein shukriya karun aap ka vijay ji---itni achchee heer sunayee hai-meri to ruuh hil gayee-

maine apne sabhi friends ko is ka link forward kar diya hai--

aage bhi aise anmol gems share karte raheeye---

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

काफ़ी गहरी बात कही है आपने इस रचना में..

mehek said...

गीत उनका गाती हूँ अगर
पायलें छनकाती है ज़िंदगी

साथ बिते पल जो याद आते हैं
हँसती है खिलखिलाती है ज़िंदगी

wah wah bahut sundar,zindagi ke alag se roop samet rakha awesome

DR.ANURAG said...

यूँ ही लम्हा लम्हा कटती जाती है जिंदगी

हाँ ,कटती जाती है जिंदगी।

आपकी लिखी हुई रचना का सारा सार यही पंक्ति है.......

कुछ नही कहूँगा बस अपना लिखा एक शेर अर्ज करूँगा......
एक अरसा हुआ तुझे देखे
इन दिनों तू कहाँ है जिंदगी.....

Lavanyam - Antarman said...

अल्पना जी
सुँदर है कविता !
आप गातीँ भी बढिया हैँ -
कला के प्रति
ये रुझान जारी रखिये ..
-लावण्या

Udan Tashtari said...

यूँ ही लम्हा लम्हा कटती जाती है जिंदगी


-सत्य,,बहुत उम्दा पंक्ति है. वाह!

डा. फीरोज़ अहमद said...

बहुत खूब मजा आ गया कविता पढ़ कर .
अगर मौका मिले तो अपनी आवाज़ रेडियो सबरंग पर दे
www.radiosabrang.com
http://vangmaypatrika.blogspot.com
पर बहुत कुछ मिलेगा .

Dr. Chandra Kumar Jain said...

तनहाइयों के देश में अकेली ही
खुद में सिमटती जाती है ज़िंदगी
==============================
इस संकुचन में ही कहीं
जीवन का विस्तार भी छुपा है.
आँखों भर उसे देखते-सी लग रही है
आपकी रचना !...पर बाहर से लगता है
कुछ खोज रही है.........!
=============================
शुभ भावों सहित
डा.चंद्रकुमार जैन

अल्पना वर्मा said...

aap sab ne apna samay nikal kar kavita padhi aur raaay di aap sabhi ka tahe dil se shukriya.

Dr.Firoz ji,
aap ke pahle bhi diye sujhav par maine mail@sabrang ...3-4 din pahle par 3 kavitayen [podcast]bhej di hain lekin un ka koi reply abhi tak nahin aaya.
shayad kuchh din aur intzaar karna hoga.
hausla badhane ke liye ek baar phir se shukriya.:)

महेंद्र मिश्रा said...

आपने अपने दिल की बात कह डाली.

'ताइर' said...

aap ne jo sama bandha hai wo hi baat hoti hai humare saath bhi...ki romani andaz mein kuchh nahi nikalta...aakhir mein bas...

यूँ ही लम्हा लम्हा कटती जाती है जिंदगी

हाँ ,कटती जाती है जिंदगी।

bahot khub...

NILAMBUJ SINGH said...

अर्चना जी , मैं नया हूँ इस दुनिया मे।
अपने दोस्त आशीष कुमार अंशु कि प्रोफाइल के किसी कोने मे आपकी टिपण्णी देखी
उत्सुकता वश आपकी प्रोफाइल भी देखी। वहाँ तो मेरी रूचि की काफी चीज़ें थीं।

कवितायें , संगीत और पुराने गीत।

आपकी कविताओं मे लघु कवितायें बहुत पसंद आयीं।
गानों का चुनाव आपने बहुत सुंदर किया है लेकिन इमानदारी से कहूँ तो शायद गायन मे उनका निर्वाह ठीक से नही हो सका है, ऐसा मुझे लगा। मैं चाहूँगा की मैं ग़लत सिद्ध हो जाऊँ।

आपको शुभकामनाएं।
यदि समय मिले तो मेरे ब्लोग्स भी देखिये , मैं आभारी रहूँगा।

Ravi said...

bahut achcha likha hai aapne...kahi ye videsh me sab se bichur jane ka gam to nahi?

अनुपम अग्रवाल said...

यूँ ही ख्यालोँ मेँ बसती जाती है ज़िन्दगी
जब लम्हा लम्हा कटती जाती है ज़िन्दगी

Rajat Narula said...

awesome poem, zindgi ka saar simaat aya apki rachna mai...

Rajat Narula said...

awesome poem, zindgi ka saar simaat aya apki rachna mai...