July 31, 2013

क्या आप सुन सकते हैं?

क्या आप सुन सकते हैं ?हाँ..तो आप को सुनना ही होगा..
अगर मैं आप से कहूँ कि आप अपने कानो को अच्छी तरह से बंद कर लें..और इसी तरह कम से कम एक घंटा अपनी सामान्य दिनचर्या करने का प्रयास करें .क्या आप कर सकेंगे?अगर हाँ ,तो कितनी देर तक?

है न मुश्किल? हम जानते हैं कि हमारी पाँच इन्द्रियों में से श्रवण क्षमता का होना उतना ही ज़रुरी है जितना हमारा देख सकना.हम पूरी तरह से सक्षम हैं फिर भि किसी एक इंद्री के कमज़ोर हो जाने पर खुद को असहाय सा समझने लगते हैं

क्या आप ने कभी उनके बारे में सोचा है जो कभी सुन नहीं पाते.ईश्वर ने उन्हें इस क्षमता से महरूम रखा है.
बच्चे सुनकर बोली सीखते हैं ,जब ऐसे बघिर बच्चे कुछ सुन ही नहीं सकेंगे तो बोलेंगे कैसे?इस तरह वह सुन न सकने के कारण बोलना भी सीख नहीं पाते. और हम जानते हैं कि भाषा स्वयं  को अभिव्यक्त करने के लिए आवश्यक है.

भारत में बहुत ही कम स्थानों पर इन बच्चों के लिए विशेष विद्यालय हैं,उनकी शिक्षा उनके रोज़गार की व्यवस्था कैसे हो ?क्या हमने आपने कभी इस बारे में सोचा है?

कोई हाथ- पैर से विकलांग होता है तो वह  दिखता है, उसे तुरंत नोटिस किया जाता है लेकिन जो व्यक्ति  देखने में पूर्ण परंतु बघिर है तो तुरंत आप उस के बारे में जान नहीं पाते.
ऐसे व्यक्ति की समस्या को समझना आसान नहीं होता .

वे अगर इशारों की भाषा सीख भी गए तो हर किसी को यह भाषा आती नहीं तो इन से कैसे संवाद करें और आपसी संवाद न कर सकने की स्थिति में  ये समाज से कट ही जाते हैं.

घर ही नहीं बल्कि बाहर भी उपेक्षित इन बच्चों और व्यक्तियों के लिए न तो कोई समय देता है न इन्हें शिक्षा और रोज़गार के पर्याप्त अवसर मिल पाते, सच तो यह है कि लोगों को पूरी जानकारी भी नहीं होती कि इनके लिए भी कुछ किया जा सकता है.

आज हम आधुनिक तकनीक के विकासशील दौर में हैं जहाँ समाज के इस वर्ग के लिए हमें हर स्तर पर कुछ न कुछ करना चाहिए .
यह भी जानना चाहिए कि विकलांग का अर्थ सिर्फ शरीर के हाथ या पाँव का न होना ही नहीं है ,विकलांगता का अर्थ है शारीरिक, मानसिक, ऐन्द्रिक, बौद्धिक विकास में किसी प्रकार की कमी का होना .

श्रवण क्षमता का न होना  भी विकलांगता के अंतर्गत ही आता है, इसे श्रवण विकलांगता कहते हैं .

इसके कई कारण होते हैं जैसे अनुवांशिक बघिरता,समय से पहले जन्म होना ,जन्म होते समय ऑक्सीजन की कमी,गर्भावस्था के समय के रोग ,उस दौरान ली गई किसी दवा का दुष्प्रभाव ,कां के अंदरूनी हिस्से में चोट लग जाना ,किस रोग विशेष से पीड़ित होना ,कान की बीमारियाँ  आदि.

जिन दोषों को दूर नहीं किया जा सकता वहाँ यह विकलांगता स्थायी हो जाती है और व्यक्ति अक्षम लेकिन हम और आप अगर सहयोग करें तो समाज का यह  उपेक्षित इस वर्ग अपनी अक्षमता को अपनी ताकत बनाकर सब के साथ कदम मिला कर चल सकता है.माना जाता है कि श्रवण विकलांग व्यक्ति में ध्यान केंद्रित कर सकने की अभूतपूर्व क्षमता होती है इसलिए ऐसे व्यक्ति अपना हर कार्य बेहतर कर सकते हैं.

रुमा  रोका एक ऐसी ही  सामाजिक कार्यकर्त्ता हैं जो इस क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रही हैं.२००४ में उन्होंने संकेतों की भाषा सीखी ताकि इस वर्ग विशेष से जुडकर उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ सकें .तब से अब तक उनके प्रयासों से ५८० युवक-युवतियाँ देश के २५ बड़े संस्थानों में सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं .

इस विडियो को देख कर मैंने समझा कि इस उपेक्षित वर्ग को हमारी आपके सहयोग की  कितनी ज़रूरत है ,आप देखेंगे तो आप भी  जान सकेंगे कि  किस प्रकार उनका अब तक का यह सफ़र रहा और मिलिए उत्तरांचल के करण से जिस की कहानी किसी भी बघिर विकलांग व्यक्ति को प्रेरणा दे सकती है उसमें आत्मविश्वास भर सकती है .

समाज सेवी रुमा  रोका की अब तक की यह यात्रा हमें सीख  देती है और हर नागरिक को जागरूक करती है कि अगर वे इस वर्ग विशेष के लिए  इतना कुछ कर सकती हैं तो हम आप क्यूँ नहीं ?क्योंकि उन्हें सहानुभूति नहीं हमारा-आप का सहयोग चाहिए!

--भारत सरकार ने विकलांग व्यक्तियों के लिए नौकरियों में छूट दी है जिनसे हम-आप अनजान रहते हैं इस लिंक पर और अधिक जानकारी के लिए देखें और अन्य लोगों के साथ भी बाँटें ताकि समाज का यह वर्ग अलग-थलग न पड़े ,बल्कि हमारे साथ चले.

28 comments:

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

सार्थक लेख, असल तस्वीर
बहुत सुंदर

प्रवीण पाण्डेय said...

निश्चय ही प्रशंसनीय कार्य है उनका, समस्त सहयोग प्राप्त हो उन्हें।

कालीपद प्रसाद said...

प्रशंसनीय कार्य
latest post,नेताजी कहीन है।
latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु

दिगम्बर नासवा said...

बहुत ही प्रशंसनीय काम कर रही हैं ... रोमा जी ...
आज की जरूरत है समाज के ऐसे वर्गों के लिए कुछ न कुछ करना जितना भी जिसके बस में हो ...

Vikesh Badola said...

जहां बैठ कर आपकी पोस्‍ट पढ़ रहा हूँ यहां विडियो मोड ब्‍लॉक है। परन्‍तु आपके उल्‍ल्‍ोखनीय विवरण ने सब कुछ अच्‍छे से बता दिया है। ऐसे सराहनीय और प्रशंसनीय कार्यों को चहुं ओर से पूर्ण सहयोग प्राप्‍त हो, ऐसी कामना करता हूँ।

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

aapke madhymam se roma jee ke baare me jaankaaree milee..behad prasansneey kaarya kar rahee hain roma jee ..aapko aaur roma jee ko hardik badhayee

सतीश सक्सेना said...

अनुकरणीय हैं वे ..

ताऊ रामपुरिया said...

विकलांगता के बारे में विस्तार से प्रकाश डाला आपने.

रामराम.

डॉ .अनुराग said...

पेशे के मद्देनज़र कई लोगो से मिलना हुआ ....एक नन्ही बच्ची को हॉस्पिटल विज़िट भी करनी पड़ती थी .जान बूझ कर दोपहर बाद करता था मन बहुत देर तक अजीब सा रहता था .

ताऊ रामपुरिया said...

रुमा रोका के काम की जितनी प्रसंशा की जाये वह कम पडेगी, विकलांगता भी अभिशाप है जिसे हटाने का काम रुमा रोका जैसे लोग ही कर सकते हैं. बहुत ही प्रेरणास्पद आलेख.

रामराम.

दिलबाग विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 01/08/2013 को चर्चा मंच पर है
कृपया पधारें
धन्यवाद

Maheshwari kaneri said...

बहुत ही सार्थक और प्रेरणास्पद आलेख.

काजल कुमार Kajal Kumar said...

भारत में बहुत काम होना बाकी है

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत ही प्रशंसनीय सार्थक आलेख ,,

RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

ajay yadav said...

भारत में काफी जागरूकता आनी बाकी हैं ,फिर भी इस क्षेत्र में काफी सकारात्मक सक्रियता बढ़ रही हैं |


एक शाम संगम पर {नीति कथा -डॉ अजय }

Prakash Govind said...

बेहतरीन और अत्यंत सार्थक पोस्ट है
रुमा रोका जैसे लोग समाज के वास्तविक नायक हैं …
ऐसे लोगों के लिए सराहना का कोई भी शब्द बहुत छोटा है।
-
-
विकलांगता के दर्द को समझना है तो आपको विकलांगता को महसूस करना होगा। समाज के लोगों को अपनी मानसिकता बदलने की जरुरत है क्योंकि विकलांग होना कोई अभिशाप नहीं है। भारतीय समाज विकलांगों के प्रति बड़ा कठोर है. लंगड़ा, बहरा, अंधा, मानसिक विक्षिप्त – ये सभी शब्द व्यक्ति की स्थिति कम उसके प्रति उपेक्षा ज्यादा दर्शाते हैं। इसलिये अगर किसी घर में कोई विकलांग है तो उसे समाज की नजरों से बचा कर रखा जाता है – कौन उपेक्षा झेले ...
-
-
एक नागरिक होने के नाते यह हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम उनकी जरूरतों को समझें, उनकी बाधाओं (शारीरिक और मानसिक) जो कि उन्हें आम जीवन जीने से रोकती हैं, को दूर करने का प्रयास करें और अगर यह संभव न हो तो कम से कम उन्हें चैन से जीने ही दें। विकलांगता का शिकार कोई भी हो सकता है इसलिए इन्हें घृणा का पात्र न मानें बल्कि स्नेह दें।

डॉ टी एस दराल said...

विकलांगता किसी भी रूप में हो , इसका दर्द वही जान सकता है जो इसे ग्रस्त होता है. लेकिन साहस के साथ सामना करते हुए ये लोग जीना सीख लेते हैं. बेशक रुमा जैसी समाज सेविकाओं की मदद से इनके जीवन में कुछ तो कमी दूर होती है.

सुज्ञ said...

मानवीय जीवन मूल्यों पर सौहार्द से सजगता का आपका यह प्रयास स्तुत्य है। बहुत बहुत शुभकामनाएं……

रश्मि शर्मा said...

सार्थक पोस्‍ट

Vinnie Pandit said...

प्रिय अल्पनाजी,
आप के लेख में जो आप ने समाज सेवी रीमा रोका के बारे में लिख है प्रशन्सनीय है।
पर मैं तो आजकल लन्दन में हूँ जहाँ हर विकलांग को हर क्षेत्र में सुविधा दी जाती है।
अभी, कल की बात है मैं H.S.Visley फूलों के उद्यान को देखने गयी थी ।
वहाँ चलने मे असमर्थ लोगों को मुफ्त Scooty,wheel chair घूमने को उपलब्ध थी.
यहाँ तक कि व्हील चैयर को चलाने वाले व्यक्ति का टिकट भी नहीं लगता ! सब जगह स्कूटी को चलाने के लिये खास रास्ते बने हैं।
अगर भारत और भरतवासी इस और ध्यान दे तो सच में यह हम सब के लिये अच्छा है।
कृपया समय-समय पर अपने विचार मेरे ब्लोग की बारे में व्यक्त करते रहियेगा। प्रोत्साहन मिलेगा।
धन्यवाद.
विन्नी,

Rajiv Kumar said...

मैं आपकी बात को बहुत अच्छे से समझता हूं। क्योंकि जब तक खुद भी ऐसी समस्या से रूबरू न हुआ जाये तब तक उसे समझ पाना बहुत कठिन है। करीब—करीब असंभव। मैं आपकी बात को पूरा का पूरा समझता हूं।

यहां भारत में विकलांगों को कुछ ज्यादा ही मुसीबत झेलनी पड़ती है।

बी एस पाबला said...

सार्थक अभिव्यक्ति

Vikesh Badola said...

भारत दर्शन वाले ब्‍लॉग पर टिप्‍पणी बॉक्‍स लगाने का कष्‍ट करें।

Alpana Verma said...

वहां टिप्पणी बॉक्स खोल दिया है.
आभार.

arvind mishra said...

रुमा रोका का यह प्रयास सचमुच प्रेरणा दायक है -आपने साझा किया -आभार!

Shashi said...

https://youtu.be/XEyLzyCtQso
Here is the link of Arsh Dilbagi who invented a technology for people who vannot speak . You shared very good information Alpana.Liked it. Thanks

Alpana Verma अल्पना वर्मा said...

Thanks Shashi ji for sharing link of a good news.

Shashi said...

Thank you Alpana . Hope you could find it by copy paste as well . He is my friend's son so we came to know . He also got award from president on Repubic day ! The world is so small now and we all can solve so many problems together .