Search This Blog

July 16, 2010

कतरनें


kids-laughing ७ जुलाई को स्कूल के पहले सत्र का आखिरी दिन था.शाम को ओपन हाउस और उसके बाद से बच्चों की गरमी की छुट्टियाँ शुरू हो गयीं,पूरे दो महीने की छुट्टियाँ हैं यानी सितम्बर में ईद के बाद ही स्कूल खुलेंगे.बच्चों की मौज लेकिन जाएँ कहाँ ?गरमी इतनी है बाहर खेल नहीं सकते सब इनडोर गेम्स /activities पर ही निर्भर रहेंगे.

गरमी की बात क्या कहें?हर साल की तरह अपने रंग में है..वही कहानी नल में दिन में इतना गरम पानी आता है कि हाथ नहीं लगा सकते ,सुबह आठ के बाद नहाना हो तो पानी भर कर ठंडा कर के इस्तमाल करना होता है और तो और रात के १ बजे भी पानी ठंडा नहीं होता है.अब आप कहेंगे पानी तो होता है न..हाँ ये भी सही है ,पानी तो २४ घंटे होता है.लेकिन नगरपालिका का पानी घर की टंकी में भरता है न कि भारत की तरह सीधा घर के पाईपों में आता है और आम तौर पर पीने का पानी बोतल वाला ही इस्तमाल किया जाता है.

July 5, 2010

हम कितने आधुनिक हैं?


शोभा डे
जन्म -१९४८, जन्म स्थान -महाराष्ट्र.,व्यवसाय- भूतपूर्व मॉडल,प्रसिद्ध कॉलमिस्ट और उपन्यासकार
वास्तविक नाम -शोभा राजध्यक्ष
शोभा डे एक विवादस्पद नाम है .लेकिन जो इन्हें करीब से जानते हैं वे मानते हैं कि उनमें गहरी अंतदृष्टि और शहरी संस्कृति की समझ है.
उन्हें लोग उनकी बेबाक अभिव्यक्ति के कारण भी जानते हैं .भारत में किताबों के ज़रिये सेक्स क्रांति लाने वाली महिलाओं में उनका नाम पहले लिया जाता है.
उनका लिखा एक लेख कल उनके ब्लॉग पर पढ़ा ,शायद बहुत लोग इस सच्चाई को जानते हों परन्तु मेरे लिए यह बहुत ही चौंकाने वाली थी.
अपनी एक मित्र के साथ इस लिंक को शेयर किया तो उस ने मुझे यही कहा कि ये बातें सब जानते हैं!शायद मैं दुनिया से कटी हुई हूँ जिसे ये बातें नयी लगीं.
मॉडल विवेक बाबाजी के दर्दनाक अंत ने एक बार फ़िर से ग्लेमर की दुनिया के राज़ दुनिया के सामने ला दिए.