Search This Blog

April 21, 2009

उम्मीद देश की

कविताओं के मिजाज़ में थोडा सा परिवर्तन करते हुए,आज एक बाल गीत प्रस्तुत है जिसे समूह गीत की तरह भी गाया जा सकता है.इसे मैंने सरल शब्दों में लिखा है.यह लय बद्ध है .मैं अभी इसे रिकॉर्ड कर के नहीं दे पा रही हूँ,जल्द ही इस के ऑडियो के साथ पोस्ट को अपडेट कर दूंगी.
[ऑडियो २८ अप्रैल को जोड़ा गया है]
उम्मीद देश की [बाल गीत]
-----------------------------

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,

न भुखमरी हो,न ही गरीबी का राज हो,
सब हों खुशहाल,हर तरफ खुशियाँ आबाद हो.

ओ नौनिहाल देश के...
अब आखिरी उम्मीद देश की तुम्हीं तो हो,
और देश के भविष्य की तुम ही तो नींव हो,

तो क्यों नहीं करते तैयार अपने ये कदम,
करनी है पार जिस से तुमको ये डगर कठिन,

करनी है पार जिस से तुमको ये डगर कठिन,

ओ नौनिहाल देश के...
कांटे मिलेंगे फूलों की ,तुम चाह न करना,
हो घोर अँधेरा कहीं ,पर,तुम नहीं डरना ,

आगे ही आगे ,बस ,तुम्हें आगे ही है बढ़ना,
होंगी कई बाधाएं ,मगर,तुम नहीं रुकना,

होंगी कई बाधाएं ,मगर तुम नहीं रुकना,

ओ नौनिहाल देश के...

तुम कामयाब हो न सकोगे तब तलक,
जब तक तुम्हारी आँखों में न कोई आस हो,

तो उठा लो क़दम अपने ,एक साथ तुम,
उम्मीद की लौ ,अपनी आँखों में बाल लो,

फिर देखना सफलता कैसे क़दम चूमेगी,
होगी विजय पताका तुम्हारे ही हाथ में,

होगी विजय पताका तुम्हारे ही हाथ में,

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,

-----------------------------------------
इस गीत को नीचे दिए प्लेयर पर सुन सकते हैं या यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं


कल मेरे सुपुत्र तरुण का १३ वाँ जन्मदिन था.आप की शुभकामनाओं के अभिलाषी हैं[यह तस्वीर पहली पोस्ट की गयी तस्वीर से बना कर एक ब्लॉगर साथी ने भेंट की है.आप सभी के तरुण को दिए स्नेह और शुभकामनाओं के लिए तहे दिल से धन्यवाद करती हूँ.]




75 comments:

mehek said...

कांटे मिलेंगे फूलों की ,तुम चाह न करना,
हो घोर अँधेरा कहीं ,पर,तुम नहीं डरना ,

आगे ही आगे ,बस ,तुम्हें आगे ही है बढ़ना,
होंगी कई बाधाएं ,मगर,तुम नहीं रुकना
bahut hi pyara baal geet hai,sunder,aur suputra ko janamdin ki dheron badhai.dua hai ishwar unhe saari khushiyon se nawaze.

दिगम्बर नासवा said...

सुन्दर गीत और अच्छी भावनाए दे कर आप तरुण का जन्म दिन मनाना चाहती हैं ................आपने एक गीत नहीं.......भाव, नयी सोच दी है गीत की माध्यम से आपने.............

तरुण को बहुत बहुत मुबारक हो १३ वां साल...........

रंजना [रंजू भाटिया] said...

तरुण को उसके जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई ... बाल गीत बहुत ही सुन्दर लगा ...पढ़ के हो जोश आ गया .. अब इसको सुनने का इन्तजार रहेगा ...

ajay kumar jha said...

naunihaalon ke liye sundar sandesh, aaj sach mein unhien iskee jaroorat hai, likhtee rahein...

seema gupta said...

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,
बाल गीत का मुखडा ही बेहद सार्थक और सुंदर है और कविता एक अच्छा संदेश देती हुई.....

तरुण बेटे को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये , ढेरो दुआओं प्यार और आशीष के साथ, भगवन हर क्षेत्र मे उसे कामयाबी दे और अपना आशीर्वाद बनाये रखे....."

"wish you many many happy returns of the day beta"

with love and regards

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,
बहुत बढ़िया रचना अल्पना जी . तरुण जी को जन्मदिन की ढेरो शुभकामना और बधाई. आभार.

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

तरूण को हैपी बर्थ डे की ढेर सारी शुभकामनाएं है जी.. बाल गीत पढ़कर जैसे बचपन में ही पहुंच गए.. ऑडियो के साथ गीत सुनने का इंतजार रहेगा.. आभार

मीत said...

बहुत सुंदर गीत लिखा है...
एकदम वीर रस से भरा हुआ...
आपके पुत्र तरुण को जन्मदिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं...
वैसे आपने अकेले ही पार्टी कर ली हमनें बुलाया ही नहीं नहीं तो हम प्यारा सा तोहफा लाते...
खैर कोई बात नहीं हमारे लिए केक भिजवा देना...
happy birth day tarun...
i pray to god that u r the most haapiest boy in the world...
मीत

अमिताभ श्रीवास्तव said...

sabse pahle to meri shubhkamanye tarun ko...
jis tarah ka geet he usase behtar jivan ho aapke suputra kaa...

bahut sundar prastuti he aapki..
कांटे मिलेंगे फूलों की ,तुम चाह न करना,
हो घोर अँधेरा कहीं ,पर,तुम नहीं डरना ,
bas yahi panktiya he jo jivan ko behtreen kr deti he..kaash in panktiyo ko har koi apne amal me laaye.....

सुशील कुमार छौक्कर said...

सबसे पहले तरुण को हमारी तरफ से जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं के साथ खूब सारा प्यार और आशीर्वाद। लगता है यह प्यारा सुन्दर गीत ही बेटे को गिफ्ट किया है। सच ये नौनिहाल ही हमारी आश और हमारा साहस है।

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,
न भुखमरी हो,न ही गरीबी का राज़ हो,
सब हों खुशहाल,हर तरफ खुशियाँ आबाद हो.

बेहतरीन गीत जब सुनने को मिलेगा तब और भी बेहतरीन लगेगा।

ताऊ रामपुरिया said...

बेटे के जन्मदिन पर ये कविता एक मां का उपहार है. इसे स्वर देकर आप और भी ओजमयी बनाएं. यही निवेदन है.

चि. तरुण जन्मदिन की हार्दिक बधाईयां, जीवन मे खूब फ़ले फ़ूलें और उन्नति करें. यही आशीष है.

रामराम.

मोना परसाई "प्रदक्षिणा" said...

तरुण को जन्मदिन की शुभ कामनाएँ ,बालगीत सुंदर है .

विनय said...

बहुत अच्छे भाव हैं कविता में!

SWAPN said...

alpanaji , tarun ke janm din ke saath , sunder baal geet, bahut khoob.
meri aur mere parivar ki or se tarun ko janm din par hardik shubhkaamnaayen aur ashirwaad, may god bless him.

VIJAY TIWARI " KISLAY " said...

अल्पना जी
बहुत ही सुन्दर बाल गीत है
"" तुम कामयाब हो न सकोगे तब तलक,
जब तक तुम्हारी आँखों में न कोई आस हो,

तो उठा लो क़दम अपने ,एक साथ तुम,
उम्मीद की लौ ,अपनी आँखों में बाल लो,

फिर देखना सफलता कैसे क़दम चूमेगी,
होगी विजय पताका तुम्हारे ही हाथ में,""
और यही भावना हमारे बेटे "तरुण " के लिए भी ..
दुनिया की साड़ी खुशियाँ और सफलताएं आपके क़दमों को चूमें
- विजय

VIJAY TIWARI " KISLAY " said...

अल्पना जी
बहुत ही सुन्दर बाल गीत है
"" तुम कामयाब हो न सकोगे तब तलक,
जब तक तुम्हारी आँखों में न कोई आस हो,

तो उठा लो क़दम अपने ,एक साथ तुम,
उम्मीद की लौ ,अपनी आँखों में बाल लो,

फिर देखना सफलता कैसे क़दम चूमेगी,
होगी विजय पताका तुम्हारे ही हाथ में,""
और यही भावना हमारे बेटे "तरुण " के लिए भी ..
दुनिया की साड़ी खुशियाँ और सफलताएं आपके क़दमों को चूमें
- विजय

डॉ. मनोज मिश्र said...

आपका बाल- गीत बहुत पसंद आया और अब तो तरन्नुम में सुनने की इच्छा भी हो आई ,तरुण को जन्मदिन पर विलंब से ही सही पर दिल से बहुत बहुत मुबारकबाद और आशीर्वाद .

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,

बहुत ही शिक्षाप्रद सन्देश दिया है अपनी कविता के माध्यम से- आपका आभार्,

तरुण का १३ वाँ जन्मदिन

हार्दीक शुभकामनाऐ तरुण को उसके जन्म दिन के उपलक्ष मे।

RAJ SINH said...

achcha geet . lay baddha ho record hone par sumadhur banega .
TARUN ko janmdin mubarak . deerghayu ho aur is geet ko sarthak kare ,yahee aashees .

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...

तरुण को बधाई जी। टींस में प्रवेश पर और भी अधिक बधाई।

डॉ .अनुराग said...

सिर्फ इतना कहूँगा की इश्वर उसे ढेरो खुशिया दे....ओर उसके दिल में एक ऐसा हौसला जिसकी लौ हमेशा जलती रही ..जो कभी नाउमीद न हो .....खुशियों का चिराग उसके पलंग के तकिये पे ओंधे मुंह लेता रहे...ओर उसके तीन वरदान कभी ख़त्म न हो.....
वैसे ऐसी माँ का बेटा लाजवाब ही होगा ...

"अर्श" said...

SABSE PAHALE TO TARUN KO USKE 13VIN JANM DIN KE SAALGIRAH PE DHERO BADHAAYEE AUR SHUBHKAAMANAAYEN...

BAHOT HI KHUBSURAT BAALGEET LIKHAA HAI AAPNE AAPKE KANTH SE SUNANAA CHAHTA HUN ....


DHERO BADHAAYEE AAPKO...

ARSH

Arvind Mishra said...

बहुत सुंदर उदबोधन /प्रयाण गीत है और आपकी प्रतिभा साफ़ दिख रही है -तरुण को मेरी ओर से ढेर सारी बधाईयाँ और स्नेहाशीष !

JHAROKHA said...

Adarneeya Alpana ji,
Tarun ko janm din kee dheron shubhkamnayen....aur apne bahut hee sundar balgeet likha hai....layabaddh ho jane par bahut achchha lagega.
Poonam

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

दीर्घ जीवी हो सुत आपका अल्पना!
मेरे मानस की सद्-भावना है यही।
नित्य-प्रति चन्द्र की भाँति बढ़ता रहे,
आज भगवान से प्रार्थना है यही।।
हो सदा मुक्त, दुख,रोग और शोक से,
मेरे हृदय की शुभकामना है यही।।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

प्रिय अल्पना जी
चि. तरुण बेटे को
जन्मदिन की ढेर सी शुभकामनाएँ
और आशीर्वाद -
Happy Birth Day Tarun Bete !
आपकी ओडीयो क्लीप का इँतज़ार रहेगा
:)
स -स्नेह,

- लावण्या

Syed Akbar said...

तरुण को उसके जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई....

हमें तो केक नहीं खिलाया आपने ??

संगीता पुरी said...

तरुण बेटे को जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये... अच्‍छी लगी कविताएं आपकी।

manu said...

तरुण बेटे,
आपको जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो,,,
इस बहाने एक अच्छा बाल गीत पढने को मिला,,,,
फिर से बधाई,,,,,,,,,

manu said...

तरुण बेटे,
आपको जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो,,,
इस बहाने एक अच्छा बाल गीत पढने को मिला,,,,
फिर से बधाई,,,,,,,,,

Udan Tashtari said...

सुन्दर गीत बन पड़ा है.

तरुण को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं. मिठाई खिलाईये!!

गौतम राजरिशी said...

खूबसूरत बाल-गीत

तरूण की तेरहवीं साल-गिरह पर करोड़ों बधाईयां...इश्वर उसे तमाम खुशियां और सफलतायें दें-टीनएज का पहला सोपान मुबारक हो उसे

अशोक पाण्डेय said...

सुंदर रचना। चिंरजीवी तरुण को जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

Arvind said...

Alpanaji... aap hamesha hi sundar likhtin hain...aaj ke bachhon se ek aur ummeed hai ke wo TV aur mobile ka jitna jaroori ho utna hi upyog karen..

Tarun ko janmdivas par dheron aashirwad...

shyam kori 'uday' said...

माँ-बेटे दोनो को हार्दिक शुभकामनाएँ, यह दिन दोनो के लिये अत्यंत महत्वपूर्ण है, उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ, शुभकामनाएँ।

भूतनाथ said...

hey tarun.........bahut-bahut-bahut badhaayi.......lekin tumne hamen mithaayi kahaan khilaayi.....?? kahir aapki mammi kee kavitaayen...gazal....aur geet hamen bahut-bahut-bahut pasand aayi....man to kar rahaa hai....ki jhapat kar khaa hi loon....aapke moonh kee aur jaati mithaayi....!!

Pratik Maheshwari said...

तरुण को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं...
बाल गीत तो पहली बार ही सुना है..
जब ऑडियो अपलोड करें तो इत्त्लाह ज़रूर कीजियेगा..
मैंने पहली विडियो अपलोड की है..यहाँ पे
बताइयेगा कैसा है..

रश्मि प्रभा said...

बहुत ही सुन्दर,जाग्रत गीत.........
तरुण को ढेर सारा प्यार,जन्मदिन का आशीर्वाद

काजल कुमार Kajal Kumar said...

तरुण के लिए ढेरों मंगलकामनायें.

Navnit Nirav said...

Sabse pahle janmdin ki badhai.
Bahut hi achchha laga ki aapne balgeet likha. Kaphi pasand aayi ye rachana.
Navnit Nirav

Harsh said...

tarun ko janam din ki hardik shubhkamnaye.......

सागर नाहर said...

चि.तरुण को जन्म दिन की शुभकामनायें।
पुरे परिवार को इस सुअवसर पर बहुत बहुत बधाईयां।

sandhyagupta said...

Tarun ko dher sara ashish.Geet bahut pasand aaya.

creativekona said...

कांटे मिलेंगे फूलों की ,तुम चाह न करना,
हो घोर अँधेरा कहीं ,पर,तुम नहीं डरना ,
आगे ही आगे ,बस ,तुम्हें आगे ही है बढ़ना,
होंगी कई बाधाएं ,मगर,तुम नहीं रुकना,

अल्पना जी ,
बहुत अच्छा देशभक्ति का गीत ...बच्चों को एक अच्छी राह दिखने वाला .बेटे को देर से ही सही मेरी ढेरों मंगलकामनाएं ..
आपको समय मिले तो मेरा बच्चों वाला ब्लॉग फुलबगिया देखियेगा .
शुभकामनाओं के साथ
हेमंत कुमार

Kavita said...

Alpana ji geet bahut hi sundar hai..Audio ki pratiksha rahegi.
Tarun ko janamdin ki dheron badhaayeeyan.

Tarun said...

उस तरूण को इस तरूण की तरफ से जन्म दिन की बहुत बहुत शुभकामनायें,

याद रहे जन्मदिन का नंबर कोई सा भी हो तरूण हमेशा ही जवान रहता है इसलिये खेलो कूदो, खूब पढ़ो और मस्ती करो

रवीन्द्र दास said...

prernadayak, sath hi achchhi kavita!

PN Subramanian said...

निश्चित ही .होगी विजय पताका उनके हाथ में, तरुण के जन्म दिन पर ढेरों शुभकामनायें. विलंब से ही सही.

Harkirat Haqeer said...

तरुण बेटे,

जन्म दिन मुबारक हो........!!!.

Harkirat Haqeer said...

"वैसे ऐसी माँ का बेटा लाजवाब ही होगा ..."

अनुराग जी पंक्तियाँ मैं भी दोहरा रही हूँ.....!!

irdgird said...

सबसे पहले तरुण को उसके जन्‍मदिन के अवसर पर शुभकामनाएं।
बहुत अच्‍छा बालगीत। कुछ दिन पहले ही मेरे राजकोट निवासी एक मित्र ने मुझे एक अच्‍छा बालगीत भेजने की गुजारिश की थी जिसे उनका बेटा स्‍कूल के एक समारोह में गा सके।..आपने मेरी समस्‍या हल कर दी। शुक्रिया आपका।

vijaymaudgill said...

इसमें कोई दो राय नहीं है कि जो आप लिखती हैं वो कमाल है।
तरुण को हमारी तरफ से ढेर सारी बधाइयां। और ब्लाग पर हम मिठाई तो खा नहीं सकते, तो ऐसा कीजिएगा तरुण के माथे पर हमारी तरफ से एक पप्पी (kiss) मीठी सी कर देना। भगवान उसकी हर फ़रियाद क़बूल करे। ख़ुद ख़ुदा उसकी राह में आंखें बिछाए बैठा रहे।

Anonymous said...

तरुण को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं !
उसकी मासूमियत यूँ ही बरकरार रहे और बड़ों का
आशीष व स्नेह बरसता रहे !
बाल-गीत काफी अच्छा लिखा है !
गीत भावप्रधान तो है ही ... साथ ही प्रेरणादायक भी है ! आपने गीत में शब्द चयन अच्छा किया है !
इसको असरदार तरीके से संगीतबद्ध किया जा सकता है !
-P.G.

Anonymous said...

Dear Alpana Ji

Ayushmaan Tarun bete ko Janm din bahut bahut mubaarak....aapka beta hai to shaaleen aur susanskrit to hoga hi...din dooni raat chauguni tarakki karke aasmaan ki bulundion ko chhoo le...yehi aashirvaad hai usay...

Bahut sundar geet likha hai aapne...aapki lekhni se nikla hua ek ek shabd saargarbhit hota hai, chaahe dekhne mein saamanya lage....atyant saraahniya karya kiya hai aapne bachchon ko desh bhakti ke liye prerit karke...badhayee hi badhayee bete ke liye bhi aur kavita ke liye bhi...aapki vaani mein ye kavita sun ne ka intezaar rahega....shubhkaamnaon sahit....

Dr Sridhar Saxena

मोहन वशिष्‍ठ said...

भगवान उसकी हर फ़रियाद क़बूल करे। ख़ुद ख़ुदा उसकी राह में आंखें बिछाए बैठा रहे।

तरुण को बहुत बहुत मुबारक हो १३ वां साल...........

sorry for late

i cant wrote in hindi so plz dont mind

दिलीप कवठेकर said...

आयुष्यमान तरुण को १३ वें साल की बहुत बहुत मुबारकबाद!!

आपकी कविताओं में वीर रस का ये नया अवतार बेहद अच्छा रहा. वाकई आपकी बहु मुखी प्रतिभा की तारीफ़ करना होगी.

कांटे मिलेंगे फूलों की ,तुम चाह न करना,
हो घोर अँधेरा कहीं ,पर,तुम नहीं डरना ,
आगे ही आगे ,बस ,तुम्हें आगे ही है बढ़ना,
होंगी कई बाधाएं ,मगर,तुम नहीं रुकना,

कविता के मीटर से पता चलता है कि इसे धुन में बांधकर गाया जा सकता है. इंतेज़ार रहेगा इस कविता के ऒडियो का.

महामंत्री - तस्लीम said...

तरूण को जन्‍मदिन की बधाई। और हॉं, पहली बार आपका कोई बालगीत पढा, अच्‍छा लगा।

-----------
मॉं की गरिमा का सवाल है
प्रकाश का रहस्‍य खोजने वाला वैज्ञानिक

mahe said...

तरुण को बहुत बहुत मुबारक हो १३ वां साल...........

mahe said...

maine birth day wish kiya lekin meri wish dikh nahi rahi

Vijay Kumar Sappatti said...

alpana ji

tarun ke janamdin ki badhai sweekar karen aur hamesha ki tarah se aapke shashkt lekhan ne shaandar abhivyakti ko anjaam diya hai ...

badhai sweekar karen ..

vijay http://poemsofvijay.blogspot.com

gardugafil said...

ओ नौनिहाल देश के ,है जागना तुमको,
हो हर तरफ अमन ,है दुआ मांगनी तुमको,

न भुखमरी हो,न ही गरीबी का राज़ हो,
सब हों खुशहाल,हर तरफ खुशियाँ आबाद हो.

ओ नौनिहाल देश के...

अब आखिरी उम्मीद देश की तुम्हीं तो हो,
और देश के भविष्य की तुम ही तो नींव हो,

तो क्यों नहीं करते तैयार अपने ये कदम,
करनी है पार जिस से तुमको ये डगर कठिन,

करनी है पार जिस से तुमको ये डगर कठिन,


तुम कामयाब हो न सकोगे तब तलक,
जब तक तुम्हारी आँखों में न कोई आस हो,

अल्पना जी
तरुण को शुभ कामनाएं
आपने यह गीत सम्भवत तरुण के लिए ही लिखा है । यदि ऐसा है तो एक राष्ट्र भक्त माँ का ह्रदय रख कर इस स्वार्थपरता वाले युग में अपने बेटे को राष्ट्र और समाज के लिए समर्पित होने का उपदेश करना ,इक्च्छा रखना निश्चित ही अभिनन्दनीय है । किंतु कभी आपने सोचा ?अगर बेटा आपसे पूंछे कि आपकी पीढी ने देश के लिए क्या किया। वह देश को भौतिक उन्नयन और नैतिक पतन की ओर ले गई । वह क्या करे ? आपका अनुशरण करे या आपसे संघर्ष करे? वह कौन सा लक्ष्य अपने लिए रखे ? समाज की मूल्यों में आस्था और परिवार भावः सम्वेदना का छय हुआ है । यही हमारे देश की शक्ति थी । जिस पर इकबाल को लिखना पडा
है बात कुछ तो हस्ती मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन दौरे जहाँ हमारा
क्या यह आशीर्वाद देने के साथ हम अपने नौनिहाल को अर्जुन की तरह लच्छ्यभेदी होने की तकनीक में निश्दत कर रहे हैं याअभिमन्यु बना कर छोड़ रहे हैं
गीत निसंदेह अच्छा है ; मेरे प्रश्न महत्वपूर्ण न लगे तो अनुत्तरित रहने दें।

गर्दूं-गाफिल said...

अल्पना जी
तरुण को शुभ कामनाएं
आपने यह गीत सम्भवत तरुण के लिए ही लिखा है । यदि ऐसा है तो एक राष्ट्र भक्त माँ का ह्रदय रख कर इस स्वार्थपरता वाले युग में अपने बेटे को राष्ट्र और समाज के लिए समर्पित होने का उपदेश करना ,इक्च्छा रखना निश्चित ही अभिनन्दनीय है । किंतु कभी आपने सोचा ?अगर बेटा आपसे पूंछे कि आपकी पीढी ने देश के लिए क्या किया। वह देश को भौतिक उन्नयन और नैतिक पतन की ओर ले गई । वह क्या करे ? आपका अनुशरण करे या आपसे संघर्ष करे? वह कौन सा लक्ष्य अपने लिए रखे ? समाज की मूल्यों में आस्था और परिवार भावः सम्वेदना का छय हुआ है । यही हमारे देश की शक्ति थी । जिस पर इकबाल को लिखना पडा
है बात कुछ तो हस्ती मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन दौरे जहाँ हमारा
क्या यह आशीर्वाद देने के साथ हम अपने नौनिहाल को अर्जुन की तरह लच्छ्यभेदी होने की तकनीक में निष्णात कर रहे हैं याअभिमन्यु बना कर छोड़ रहे हैं
गीत निसंदेह अच्छा है ; मेरे प्रश्न महत्वपूर्ण न लगे तो अनुत्तरित रहने दें।

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

तरुण को १३ वें जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं

mark rai said...

bal git ne sach me man ko moh hi liya ..aage kya likh sakta ..yah mahshush karne ki chij hai ..jandin ki bhi badhaai ..tarun jiyo hajaaro saal

Raavi said...

Bahut achcha geet likha hai Alpana ji.
isey dhun ke saath kab post karnengi?waiting...

Tarun ko janamdin ki bahut bahut belated badhayeeyan.

-Raavi

BrijmohanShrivastava said...

बाल गीत ऐसा लगा जैसे ""हम लाये है तूफ़ान से .......बच्चो सम्हाल के ""वाले गीत की अगली स्टेज हो /बेटे को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

sureeli sharma said...

बहुत अच्छा लिखा है आपने .बधाई

sureeli sharma said...

बहुत अच्छा लिखा है आपने .बधाई

मोहन वशिष्‍ठ said...

अब मेरी हिंदी चल गई है इसलिए दोबारा से हम तरूण को उनके 13वें जन्‍मदिन की हार्दिक बधाई देते हैं तरूण जन्‍मदिन की ढेरों सारी बधाई हो आपको बस खूब पढो और आगे बढो हमारी तहेदिल से यही आपके लिए शुभकामनाएं हैं

kavi kulwant said...

audio sun kar maza aa gaya..khoobsurat kavita aur khoobsurat aawaaz...

श्याम सखा 'श्याम' said...

आपने बेटे को कविता का अच्छा उपहार दिया।आपके बेटे व आप सभी को जनमदिन की शुभकामनाएं।
दूर रहें बलाएं
खुशियां ढे़र सारी आएं
कबूल करें दुआएं
श्याम सखा ‘श्याम’

रावेंद्रकुमार रवि said...

आज पता चला
कि देश का नौनिहाल
अभी तक सो रहा है
और
उसे जागने की भी
आवश्यकता है!

इस पुकार के लिए
रचनाकार बधाई की पात्र हैं!

Mumukshh Ki Rachanain said...

दमदार कविता का मज़ा तब और दूना हो गया जब इसका आडियो सुना.

बेटे तरुण के जन्म दिन पर देर से ही सही हार्दिक बधाई, साथ ही ईश्वर से यह प्रार्थना कि ईश्वर उसे आपकी अभिलाषाओं को पूर्ण करने में उसके शक्ति साहस और तीव्र बुद्धि में निरतर वृद्धि करें.

आभार

चन्द्र मोहन गुप्त

शुभम जैन said...

aapki aawak kitni mithi hai...musical instrument ke saath to aapke kai gaane sune lekin aaj pahli baar is kavita ko sirf aapki aawaj me suna...bahut bahut achcha laga...kitni shakkar khati ho aap :)

careerheights dehradun said...
This comment has been removed by a blog administrator.