आप का स्वागत है!


''यूँ तो वतन से दूर हूँ लेकिन इस की मिट्टी मुझे हमेशा अपनी ओर खींचे रहती है''

February 12, 2016

मदनोत्सव का स्वागत करें ...

चित्र-अल्पना 

 मदनोत्सव [बसंत पंचमी ] से बसंत ऋतु का आगमन हुआ इसका स्वागत कर रही हूँ ,




दो स्वरचित कविताओं के पाठ के साथ ..


१.तुम्हारी प्रिया हूँ -


=======================================================
2.मौन की भाषा -





==============================================================
आपको यह प्रस्तुति कैसी लगी ,अवश्य बताइएगा.
==================================