Search This Blog

April 28, 2013

'बरखा रानी ज़रा....…'


दोपहर ३ बजे..अप्रैल ,२०१३ 
बरसात का मौसम किसे नहीं भाता?
अमीरात में पिछले दो साल से बारिश नहीं हुई थी..कुछ महीने पहले  हलकी सी  हुई थी लेकिन पिछले दो दिन से यहाँ ऊपरवाले  की ऐसी मेहरबानी है कि बादलों से ढके आसमान ने रूक- रूक कर अभी  तक बरसाना जारी रखा है।

April 23, 2013

प्रश्न!

??????????????????????????????????????????????????





न यहाँ कौरव थे , न शतरंज की बिसात 
कातर  स्वर और पुकार 
क्यों कान्हा तुमने सुना नहीं?
देह उघडी,
हुई रूह छलनी ,
और  शर्मसार मानवता .
--------------------------------------------------

................................................अल्पना ...............................................






April 15, 2013

एक अजन्मी कविता!



एक अजन्मी कविता 
चाह छाँव मीत प्रीत गीत अर्थ-बिन अर्थ समय-असमय बात -बेबात गुण -अवगुण उपेक्षा -अपेक्षा धुंध- स्वप्नशून्य- नैन 
********अल्पना ******* 


April 11, 2013

उस वक्त का कब वक्त ?



एक ऑफिस  में वहाँ काम करने वाली कुछ महिलाएँ बातें करने में मशगूल हैं।
सबसे अधिक उम्र वाली महिला की उम्र ६१ साल और सब से कम उम्र वाली महिला ३२ वर्षीय है.
सभी विवाहित हैं । तीन  तो दादी /नानी भी बन चुकी हैं। कुछ के बच्चों की शादी हाल  ही में हुई है तो कुछ की होने वाली है। 
सभी की आर्थिक स्थिति लगभग एक सी है। उसमें  बहुत अंतर नहीं है । 
सभी की आय में भी बहुत अधिक अंतर नहीं है। 

April 2, 2013

खबर की खबर .....



इस खबर के प्रकाशित होने की सूचना श्री महेंद्र शर्मा जी ने दी है।उन्होंने लघुकथा पोस्ट पर एक टिप्पणी  में बताया था कि   9 मार्च , Saturday,२०१३  को राजस्‍थान पत्रिका के Entrepreneurship पेपर पर  'सोच और जीवनदृष्टि' के अन्‍तगर्त इस  blog  का परिचय दिया गया था।वहीँ से लिंक ले कर वे मेरे ब्लॉग तक पहुंचे ......मेरे अनुरोध पर उन्होंने उस पेपर की कटिंग भेजी। उनको विशेष धन्यवाद। 

मैं इस पोस्ट  के माध्यम से पत्रिका  के संपादक एवं इस लेख के लेखक को  धन्यवाद देना चाहती हूँ
और आभार प्रकट करना चाहती हूँ कि उन्होंने मेरे कार्य को सराहा और प्रोत्साहन दिया। 

-------------------------------------------------------------------------